" /> पुणे की रेल पटरी पर टला संभाजीनगर जैसा हादसा

पुणे की रेल पटरी पर टला संभाजीनगर जैसा हादसा

ड्राइवर ने लगाया इमरजेंसी ब्रेक
बचाई सैकड़ों मजदूरों की जान
संभाजी नगर में प्रवासी मजदूरों के साथ हुए दुर्भाग्यपूर्ण रेल हादसे से पटरी पर चलनेवालों ने शायद कोई सबक नहीं सीखा। यही वजह है कि संभाजी नगर में 16 प्रवासी मजदूरों की रेल हादसे में दर्दनाक मौत के कुछ ही घंटे बाद पुणे में प्रवासी मजदूरों के साथ एक और भीषण हादसा होते-होते रह गया। हालांकि पुणे में माल गाड़ी के मोटरमैन की सजगता के कारण हादसा टल गया और कई मजदूरों की जान बच गई पुणे के उरुली कांचन रेलवे लाइन पर चल रहे सैकड़ों मजदूरों की जान ट्रेन ड्राइवर की सतर्कता से बच गई।
मध्य रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक पुणे जा रही मालगाड़ी के ड्राइवर को उरुली कांचन स्टेशन के पास रेल ट्रैक पर कुछ लोग चलते और बैठे हुए दिखाई दिए। उस वक्त ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर पटरी पर चल रहे सैकड़ों मजदूरों की जान बचाई और बड़ा हादसा होते-होते टल गया। पटरी पर ढेर सारे मजदूरों को देखते ही ड्राइवर के होश उड़ गए। उसने दूर से ही मालगाड़ी का हॉर्न बजाना शुरू किया। मजदूरों ने हॉर्न पर ध्यान दिया और वे पटरी से किनारे आ गए। हालांकि मालगाड़ी के ड्राइवर ने किसी तरह का खतरा मोल नहीं लिया और मालगाड़ी का इमरजेंसी ब्रेक लगा दिया। तेज आवाज के साथ ट्रेन के पहिये पटरी से रगड़ खाते हुए आखिरकार कुछ दूर चलने के बाद रुक गए। इस घटना से मजदूर तो डर ही गए थे लेकिन ट्रेन के थमते ही ड्राइवर की जान में जान आई। ड्राइवर ने मजदूरों को समझाया कि वे किसी भी हालत में ट्रेन की पटरी पर न चलें। लॉकडाउन में यातायात के साधन बंद होने की वजह से सैकड़ों मजदूर रेलवे पटरी पर ही यात्रा कर रहे हैं। यह स्थिति बेहद खतरनाक हो सकती हैं। महाराष्ट्र के संभाजीनगर में दो दिन पहले ऐसे ही एक हादसे में 16 मजदूरों को एक मालगाड़ी ने रौंद दिया था। ये मजदूर ट्रेन पकड़ने के लिए रेल की पटरी पर ही चल रहे थे और रात में पटरी पर ही सो गए थे। सुबह इसी रूट से गुजर रही एक ट्रेन ने इन मजदूरों को कुचल दिया था।