पुलों की बढ़ाओ उम्र!,  आधुनिक तकनीकी का करो उपयोग  मुख्यमंत्री ने दिया अधिकारियों को निर्देश

मुंबई के पुलों की उम्र दीर्घकालीन हो, इसके लिए आधुनिक तकनीकी का उपयोग करो। विभिन्न सरकारी यंत्रणा के मार्फत मुंबईकरों की सुख-सुविधा के लिए पुलों का निर्माण कार्य किया जाता है। यह निर्माणकार्य केवल ३०-३५ वर्ष तक चले, ऐसे पुलों का निर्माण मत करो। आधुनिक तकनीकी का उपयोग करके मुंबई के पुलों का निर्माणकरो, जो लंबे समय तक बने रहें। बता दें कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मुंबई के पुलों के संबंध में सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों की बैठक कल ली। इस बैठक में मुंबई के पुलों की स्थिति के बारे में जानकारी ली और अधिकारियों से उक्त बातें कहीं। गौरतलब हो कि मुंबई में कुल ३४४ पुल हैं, जिसमें ३१४ पुल मुंबई मनपा अंतर्गत हैं, ३० पुल मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण अंतर्गत हैं, जिसमें से २९ पुल स्ट्रक्चरल आडिट के बाद बंद कर दिए गए हैं। ११६ पुलों की मामूली मरम्मत की गई है। ६७ पुलों की भारी पैमाने पर मरम्मत शुरू है। मध्य रेलवे के मार्फत १९९ पुलों का सर्वेक्षण किया गया है। पिछले पांच वर्षों में मध्य रेलवे के मार्फत ६८ तो पश्चिम रेलवे के मार्फत ३२ पादचारी नए पुल बनाए गए हैं।
मोबाइल ऐप पर मिलेगी पर्यायी मार्ग की जानकारी
मुंबई में चल रहे पुलों के कामों से जो मार्ग बंद हैं, उन मार्गों के लिए पर्यायी मार्ग की जानकारी देने के लिए मोबाइल ऐप तैयार करने का आदेश मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने संबंधित अधिकारियों को कल दिया। कल मुख्यमंत्री के सरकारी निवास ‘वर्षा’ पर मुंबई के जर्जर पुलों को लेकर बैठक हुई। इस बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी संबंधित विभाग के अधिकारियों को मोबाइल ऐप के माध्यम से वैकल्पिक मार्ग की जानकारी देने के अलावा जो सड़कें नागरिकों के लिए बंद हैं, इसकी जानकारी देने के लिए जगह-जगह पर बंद का बोर्ड लगाने, वाहनों के आवागमन की उचित व्यवस्था करने का आदेश मुख्यमंत्री ने दिया। ताकि मुंबईकरों को किसी भी प्रकार की परेशानी बारिश में न हो। घाटकोपर और जुहू तारा रोड इन दो पुलों का आईआईटी और वीजेटीआई के मार्फत पुन: जांच की गई है। आधुनिक तकनीकी का उपयोग करके उक्त दोनों पुलों की मरम्मत की जाएगी। उसके बाद वाहनों के लिए उक्त पुल खोले जाएंगे, ऐसा निर्णय इस बैठक में लिया गया। इस बैठक में मुंबई पुलिस आयुक्त संजय बर्वे, एमएमआरडीए आयुक्त आर.ए.राजीव, बेस्ट महाव्यवस्थापक सुरेंद्र बागड़े, मध्य रेलवे मंडल के महाप्रबंधक संजय कुमार जैन, पश्चिम रेलवे महाप्रबंधक अनिल गुप्ता सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी व अभियंता उपस्थित थे।