पेंटर धोनी

ये शायद कोई नहीं जानता कि महेंद्र सिंह धोनी असल में एक पेंटर बनना चाहते थे। जी हां, चित्रकार। है न अजीब क्योंकि ऐसा तो उनकी फिल्म में भी नहीं दिखाया गया। ये अचानक धोनी को क्या हो गया कि वो चित्रकार बनना चाह रहे हैं? दरअसल धोनी ने अपने बचपन के सपने को साझा करते हुए कहा कि वह चित्रकार बनना चाहते थे और क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद वह अपने इस शौक को पूरा करना चाहेंगे। मजा ये देखिए कि उनके चित्रकलाकार बनने की बात क्या हुई कि इस बात से इस क्रिकेटर के संन्यास लेने को लेकर कयास लगने लगे हैं? आईसीसी विश्व कप के बाद संन्यास लेने की संभावना की चर्चा के बीच धोनी ने अपनी कुछ पेंटिंग की प्रदर्शनी करते हुए एक वीडियो में कहा, ‘मैं आप सभी को एक गोपनीय बात साझा करना चाहता हूं। बचपन से ही मैं एक चित्रकार बनना चाहता था। मैंने बहुत क्रिकेट खेल ली है और इसलिए मैंने पैâसला किया है अब समय वह करने का आ गया है, जो मैं करना चाहता था और इसलिए मैंने कुछ पेंटिंग बनाई हैं।’ हिंदुस्थान की टी-२० और वनडे विश्व कप विजेता टीमों के कप्तान रहे ३७ वर्षीय धोनी क्रिकेट महाकुंभ में भाग लेने के लिए हिंदुस्थानी टीम के साथ ब्रिटेन जाने के लिए तैयार हैं। यह उनका अंतिम विश्व कप हो सकता है। उनकी पहली पेंटिंग प्राकृतिक दृश्य की है। दूसरी पेंटिंग के बारे में उन्होंने कहा कि यह ऐसा है जैसा भविष्य में परिवहन का साधन हो सकते हैं। धोनी ने तीसरी पेंटिंग को अपनी पसंदीदा बताया। उन्होंने कहा कि यह उनकी प्रतिकृति है, जिसमें वह इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपरकिंग्स की जर्सी में खेलते हुए दिखाई दे रहे हैं। धोनी ने कहा कि वह जल्द ही अपने चित्रों की प्रदर्शनी लगाएंगे और उन्होंने इस संबंध में अपने प्रशंसकों से सुझाव और सलाह मांगी है।