पेण पहुुंचा एमएमआरडीए

मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) के विस्तार का प्रस्ताव कल विधानसभा व विधानपरिषद में सर्वसम्मत से पास किया गया।
मुंबई और आसपास के इलाकों के तेजी और योजनाबद्ध विकास के लिए पालघर जिले की पालघर, वसई तहसील सहित अन्य भागों और रायगढ़ जिले के अलीबाग, पेण, पनवेल और खालापुर तहसीलों के अन्य बचे भाग को एमएमआरडीए में शामिल करने का निर्णय राज्य सरकार ने लिया है। कल विधानमंडल में इस संबंध में अधिसूचना प्रस्ताव मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रखा, जिसका सभी दलों ने समर्थन किया।
सरकार ने वैâबिनेट बैठक में एमएमआरडीए की सीमा बढ़ाने का निर्णय लिया था। इससे संबंधी प्रस्ताव मुख्यमंत्री ने विधानसभा में रखा। इस संदर्भ में जल्द ही अधिसूचना राजपत्र (गजट) में प्रकाशित होगी। प्रस्ताव के अनुसार मुंबई और आसपास का परिसर मुंबई महानगर प्रदेश माना जाएगा। इसमें पालघर जिले की संपूर्ण पालघर तहसील और वसई तहसील का शेष भाग, रायगढ़ जिले का अलीबाग, पेण, पनवेल और खालापुर तहसीलों के शेष भाग को जोड़कर एमएमआर प्रदेश का विस्तार करने का सरकार ने संकल्प लिया है। सरकार के इस निर्णय से इन इलाकों का तेज और योजनाबद्ध विकास हो सकेगा।
साथ ही भिवंडी, कल्याण और अंबरनाथ तहसील की पूर्वी सीमाओं और कर्जत तहसील में सहृयाद्रि गिरीपीठ पहाड़ियों के साथ शेलु से कलंबोली, वरेडी और ताकचे, बंजरवाडी, सावेले, हेदवली, मांडवणे, भिवपुरी (कैंप) हुमगांव, साईडोंबर, ढाक, साल्वे, खरवंडी से चौची गांव तक तथा खालापुर तहसील की पूर्वी सीमा तक के भाग को एमएमआरडीए में शामिल किया गया है। मुंबई और आसपास के क्षेत्रों का हो रहे विस्तार और विकास को योजनाबद्ध तरीके से लागू करने में यह निर्णय कारगार साबित होगा। १९६७ में एमएमआरडीए का क्षेत्र ३ हजार ९६५ किमी था, कालांतर में बढ़कर एमएमआरडीए का क्षेत्र ४,२५४ किमी हुआ था। अब यह बढ़कर ६,२७२ किमी हो गया है। इसके अलावा मेट्रो मार्ग-१० गायमुख से शिवाजी चौक (मीरा रोड), मेट्रो मार्ग-११ वडाला से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल और कल्याण से तलोजा मेट्रो मार्ग-१२ परियोजना को मंजूरी दी गई है। कल दोनों सदनों में एमएमआरडीए के विस्तार का प्रस्ताव पेश किया गया था। विधानसभा में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि सभी दलों के पदाधिकारी, महापौर, नगराध्यक्ष, जिला परिषद अध्यक्ष आदि लोगों की मांग पर विस्तार का निर्णय लिया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुरबाड़ और शहापुर तालुका को भी एमएमआरडीए में समाहित करने पर विचार किया जाएगा। विपक्षी सदस्यों द्वारा दिए गए सुझाव पर विचार किया जाएगा। एकोसीटिव जोन पर भी विचार किया जाएगा। विस्तारित एमएमआरडीए क्षेत्र में बने अनधिकृत निर्माण कार्यों पर भी विचार किया जाएग।
क्षेत्र बढ़कर हुआ ६,२७२ किमी
 मुख्यमंत्री ने विधिमंडल में रखा प्रस्ताव
 दोनों सदनों में हुआ विस्तार का प्रस्ताव पास