पौने आठ लाख ठाणेकरों के पास नहीं है मतदाता पहचान पत्र, जिले में कुल ६० लाख ९४ हजार ३०८ मतदाता

लोकसभा चुनाव के लिए आयोग द्वारा अंतिम मतदाता सूची पेश की गई है। ठाणे जिले के तीन लोकसभा क्षेत्रों में कुल ६० लाख ९४ हजार ३०८ मतदाता हैं, जिनमें ३३ लाख २१ हजार ७५८ पुरुष और २७ लाख ७० हजार ९४९ महिला मतदाता हैं जबकि तृतीय पंथी अर्थात किन्नर ३४०, अनिवासी भारतीय ४०, सेना के १,२२१ मतदाता हैं। जिले में सात लाख ६९ हजार ५५२ मतदाता ऐसे हैं, जिनके पास मतदाता पहचान पत्र ही नहीं है।
बता दें कि जिले के विधानसभा निहाय मतदाताओं पर नजर डाली जाए तो जिले के ऐरोली विधानसभा क्षेत्र में सर्वाधिक चार लाख ३४ हजार ९३५ मतदाता हैं, जबकि दूसरे स्थान पर मीरा-भाइंदर है, जहां चार लाख २२ हजार २७९, कल्याण-पश्चिम में चार लाख २८ हजार ८१४, ओवला-माजिवाड़ा में चार लाख २१ हजार ११८, कल्याण ग्रामीण में चार लाख तीन हजार २०, मुरबाड में तीन लाख ७८ हजार ५३०, बेलापुर में तीन लाख ६८ हजार ५४३, मुंब्रा-कलवा तीन लाख २८ हजार ४४०, अंबरनाथ में तीन लाख दो हजार ४५६, कल्याण-पूर्व में तीन लाख ३३ हजार ९७१, डोंबिवली में तीन लाख ३८ हजार २१७, कोपरी-पाचपाखाड़ी में तीन लाख ४२ हजार ७९३, ठाणे में तीन लाख १८ हजार ६७, भिवंडी में २ लाख ७९ हजार ३४०, शहापुर दो लाख ४४ हजार ९०, भिवंडी- पश्चिम दो लाख ६४ हजार ६७८, भिवंडी- पूर्व में दो लाख ६३ हजार ६७ तो उल्हासनगर विधानसभा क्षेत्र में दो लाख २१ हजार ८५० मतदाता हैं।
तृतीय पंथियों को मिला अधिकार
जिले में इस बार तृतीय पंथियों को भी मतदान का अधिकार देने के उद्देश्य से उन्हें भी मतदाता सूची में शामिल किया गया है। जिले में कुल ३४० किन्नर मतदाता हैं, जिसमें सर्वाधिक ८१ तृतीय पंथी कल्याण-पूर्व, भिवंडी-पश्चिम में ७०, कल्याण ग्रामीण ५५ और ऐरोली में २५ तृतीय पंथी मतदाताओं का समावेश है।