प्लास्टिक बंदी को मिलेगी १०० फीसदी सफलता-आदित्य ठाकरे ने व्यक्त किया विश्वास

लोगों के सहयोग से राज्य में प्लास्टिक बंदी  ६०-७० फीसदी तक सफल हो गई है। प्लास्टिक की थैलियों की जगह लोगों के हाथ में कपड़े व जूट की थैलियां दिखने लगी हैं। अगले २-३ वर्षों में प्लास्टिक बंदी को १०० फीसदी सफलता मिल जाएगी। ऐसा विश्वास शिवसेना नेता व युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे ने कल व्यक्त किया।
शिवसेना-युवासेना की ओर से शिवसेना संगठक हेमराज शाह की अगुआई में ‘प्लास्टिक  बंदी व पर्याय’ विषय पर निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। इस विषय पर निबंधों के संकलन की मराठी व गुजराती भाषा में पुस्तक के विमोचन तथा निबंध स्पर्धा के विजेताओं को पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन शिवसेना भवन में किया गया था। आदित्य
ठाकरे के हाथों निबंध प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार व प्रमाणपत्र प्रदान किया गया। इसी तरह प्लास्टिक बंदी और पर्याय पुस्तक का विमोचन भी आदित्य ठाकरे के हाथों किया गया।
इस समारोह के दौरान आदित्य ठाकरे ने कहा कि सरकार नियम बनाती है लेकिन नियमों का पालन हमें करना चाहिए। सफलता, असफलता कानून पर नहीं बल्कि हम उसका पालन किस तरह से करते हैं, इस पर निर्भर करता है। प्लास्टिक बंदी को लेकर लोगों में जागरूकता लाने के लिए इस निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। प्लास्टिक बंदी कानून नहीं, एक मुहिम है और ऐसी मुहिम को आगे बढ़ाते रहना चाहिए। इसके लिए नागरिकों को एक साथ लाकर आगे बढ़ाएंगे, ऐसा आह्वान भी उन्होंने इस मौके पर किया। विलेपार्ले और पुणे में इस मुहिम का ज्यादा असर दिखने की बात उन्होंने अपने आकलन के आधार पर कही। प्लास्टिक बंदी के मौके पर बात करते समय आदित्य ठाकरे ने चौपाटी पर स्वच्छता मुहिम व नदियों को प्रदूषण मुक्त करने के महत्व का उल्लेख किया। मुंबई की चौपाटियों पर स्वच्छता मुहिम का आयोजन किया जाता है। अफरोज ने चौपाटियों पर स्वच्छता मुहिम शुरू की। अब वह मुहिम फलीभूत हो गई है। महाराष्ट्र की नदियों को प्रदूषण मुक्त करने की योजना है। दहिसर, पोइसर तथा महाराष्ट्र की अन्य १० नदियों को प्रदूषण मुक्त करने के लिए हम पर्यावरण मंत्रालय से प्रयास कर रहे हैं। निधि का इंतजाम कर रहे हैं। एक-२ दिन में पर्यावरण मंत्री रामदास कदम से मिलेंगे ऐसा भी उन्होंने कहा।
माहुलवासियों का स्थानांतरण मुख्यमंत्री तुरंत कदम उठाएं
माहुल में प्रदूषण बढ़ रहा है। माहुलवासियों का स्थनांतरण बेहद जरूरी है। इस समस्या को और कितने दिन तक लंबित रखेंगे? मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को इस पर तुरंत कदम उठाना चाहिए। ऐसा आह्वान शिवसेना नेता-युवासेना प्रमुख आदित्य ठाकरे ने किया।
शिवसेना भवन में पत्रकारों से चर्चा के दौरान उन्होंने माहुलवासियों की समस्या पर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि ६ महीने पहले मैं मुख्यमंत्री से मिला था। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन व राज्यपाल सी. विद्यासागर राव से भी मिला था लेकिन माहुलवासियों की का स्थनांतर अभी भी नहीं हो सका है। माहुलवासियों को एचडीआईएल के घरों में स्थनांतरित किया जाए या महाडा के घरों में?  इस पर मुख्यमंत्री द्वारा तुरंत निर्णय नितांत जरूरी है। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि माहुलवासियों को म्हाडा के मार्फत ३५० मकान देने का हम प्रयास कर रहे हैं।  वहीं मराठा समाज को आरक्षण की घोषणा पर आदित्य ठाकरे ने खुशी जाहिर की और उम्मीद जताई कि मराठा समाज को न्याय व अधिकार मिलेगा। आरक्षण लागू होने के बाद आंदोलनकारियों के खिलाफ दर्ज किए गए मामलों को वापस लिया जाना चाहिए, साथ ही धनगर व अन्य समाज को भी आरक्षण मिले ऐसी शिवसेना की मांग है। आगे उन्होंने ऐसी भी कहा।