फरवरी के ठंडे सर्वे से  भाजपा को छूटी कंपकंपी

यूपी में सीटों का पारा २० तो महाराष्ट्र में ७ तक गिरेगा

मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में फरवरी महीने में ठंडी से पारा गिरने से आम जनता में कंपकंपी छाई हुई है। उसी प्रकार भाजपा की अंदरूनी सर्वे की रिपोर्ट फरवरी महीने में आने से भाजपा कार्यकर्ताओं में कंपकंपी होने लगी है। भाजपा के अंदरूनी सर्वे में यूपी में लोकसभा सीटों का पारा गिरकर २० पर पहुंच गया है तो महाराष्ट्र में यह पारा गिरकर ७ तक पहुंचने की आशंका जताई गई है।
बता दें कि आगामी लोकसभा चुनाव नजदीक है और सभी राजनैतिक दल सीटों के गुणा-भाग में जुटे हैं। सत्ताधारी भाजपा ने तो आम चुनावों में अपनी स्थिति परखने के लिए एक सर्वे करा लिया है। इस सर्वे के नतीजे भाजपा के लिए चिंता का सबब बन गए हैं। दरअसल सर्वे में यह पता चला है कि भाजपा को उत्तर प्रदेश सहित हिंदी भाषी भागों में सबसे अधिक नुकसान हो रहा है। हिंदीभाषी राज्यों के अलावा महाराष्ट्र से भाजपा को बड़ी उम्मीद थी लेकिन महाराष्ट्र की सर्वे रिपोर्ट ने भाजपा नेताओं के अलावा मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व अमित शाह की भी नींद उड़ा दी है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक शाह व देवेंद्र भले ही महाराष्ट्र में ४५ सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं परंतु शिवसेना से अलग होकर चुनाव ल़ड़े तो केवल सात सीटों में ही भाजपा सिमट जाएगी। इसी प्रकार उत्तर प्रदेश की ८० लोकसभा सीटों में से २०१४ में ७१ सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की थी लेकिन ताजा सर्वे में भाजपा को आगामी लोकसभा चुनावों में सिर्फ २० सीटें मिलने की संभावना जताई गई है। माना जा रहा है कि यूपी में भाजपा को हो रहे इस संभावित नुकसान में बसपा-सपा गठबंधन की अहम भूमिका है। महाराष्ट्र और यूपी की सर्वे रिपोर्ट ने भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं में कंपकंपी पैदा कर दी है।