फर्जी फ्रेंड का फर्जीवाड़ा, `दो लाख में बनाया नल्ला टीसी

रेलमंत्री पीयूष गोयल का मित्र बताकर लोअर परेल में रहनेवाले पर्यावरण सलाहकार से डेढ़ लाख रुपए की ठगी का मामला पिछले दिनों सामने आया था। उक्त मामले में माटुंगा पुलिस ने ज्योति कुमार अग्रवाल नामक आरोपी को गिरफ्तार किया है। अब रेलवे में ठेके पर नियुक्त सफाईकर्मी खुद को पूर्व रेल मंत्री का करीबी बताकर कई बेरोजगारों को लाखों रुपए का चूना लगाया है। उक्त ठग ने पूर्व रेलमंत्री के नाम से व्हॉट्सऐप पर `सुरेश प्रभु  फ्रेंड्स क्लब’ नामक ग्रुप बनाया था। उस ग्रुप के जरिए कई लोगों से ठगी का आरोप लगा है।

बता दें कि आरोपी जितेंद्र यशवंत घाडी पूर्व ग्रुप में पश्चिम रेलवे के मुंबई डिवीजन में टिकट निरीक्षक (टीसी) तथा मैकेनिकल इंजीनियर के पद के लिए भर्ती निकलने से संबंधित एक पत्र साझा किया था। उस पत्र के कारण नालासोपारा-पश्चिम निवासी विश्वनाथ रामचंद्र गुरव सहित कई बेरोजगार जितेंद्र घाडी के संपर्क में आए थे। बताया जा रहा है कि घाडी ने गुरव से १ लाख ९० हजार रुपए लेकर टीसी के पद पर नियुक्ति का झांसा दिया तथा टीसी की ड्रेस और नियुक्ति से संबंधित पत्र दिया था। उक्त पत्र पर पश्चिम रेलवे के मुंबई डिवीजन की मुहर लगी थी, जो कि नकली निकली।

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त मनोज शर्मा व डीसीपी परमजीत सिंह दाहिया के मार्गदर्शन तथा खार पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक संजय मोरे के नेतृत्व में पीआई नंदकुमार गोपाले की टीम ने जितेंद्र घाडी को गिरफ्तार किया है। कोर्ट ने उसे पुलिस हिरासत में भेज दिया है। घाडी ने और कितने लोगों को ठगा है इसकी जांच में पुलिस जुटी है।