" /> फायर ब्रिगेड में कोरोना का प्रकोप : अब तक 2 कर्मचारियों ने गवाइं जान

फायर ब्रिगेड में कोरोना का प्रकोप : अब तक 2 कर्मचारियों ने गवाइं जान

कोरोना का प्रकोप दिन-प्रतिदिन तेजी से बढ़ता जा रहा है। यह संक्रमण पुलिस को अपनी जद में लेने के बाद अब फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों को निशाना बना रहा है। गुरुवार को गोरेगांव अग्निशमन दल में तैनात एक कर्मचारी की कोरोना की वजह से मौत हो गई है। इसके साथ ही फायर ब्रिगेड के मौत का आंकड़ा दो हो गया है। इस खबर से फायर ब्रिगेड कर्मचारी भी तनाव में हैं।
फायर ब्रिगेड को भी कोरोना योद्धा कहा जा रहा है। फायर विभाग के कर्मचारी आग बुझाने के साथ-साथ इमारतों को सैनिटाइज करने का काम भी करते आ रहे हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि सैनिटाइज करते वक्त खतरा अधिक बढ़ जाता है। गोरेगांव अग्निमिशन दल में तैनात कर्मचारी की उम्र 50 वर्ष से अधिक बताई जा रही है। कुछ दिन पहले उसमें कोरोना के लक्षण दिखाई देने लगे, जिसके बाद उसका कोरोना टेस्ट किया गया, जो पॉजिटिव पाया गया। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां गुरुवार को उसकी मौत हो गई है। बता दें कि इसके पहले रविवार को एक 56 वर्षीय फायर ब्रिगेड कर्मचारी की मौत का मामला सामने आया था। वह पहले से ही टाइफाइड से ग्रस्त था और बाद में उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन सेहत अधिक खराब होने के कारण जेजे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। वह गोवालिया टैंक फायर स्टेशन ग्रांट रोड में तैनात था। फायर ब्रिगेड के एक अधिकारी ने बताया कि अभी तक 41 फायर ब्रिगेड के कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए है, जिसमें से दो की मौत हो गई है, वहीं 4 कर्मचारियों को आईसीयू में रखा गया है। फायर ब्रिगेड में बढ़ रहे कोरोना मामलों को देखते हुए भायखला में 30 बेड का कोविड केअर सेंटर का निर्माण किया गया है।