" /> फिर छलका दर्द 

फिर छलका दर्द 

टीम इंडिया के कभी सबसे पावरफुल ऑलराउंडर रहे युवराज सिंह का दर्द समय समय पर छलकता रहता है। और ये ऐसा दर्द है जिसका कोई इलाज अब नहीं। युवराज सिंह ने कहा है कि करियर के अंत में उनके साथ गैरपेशेवर तरीके से व्यवहार किया गया। युवराज को हिन्दुस्थान के महान हरफनमौला खिलाड़ियों में गिना जाता है। वह देश की टी-२० वर्ल्ड कप-२००७ और वर्ल्ड कप-२०११ जीत का अहम हिस्सा रहे थे। युवराज ने कुछ और महान खिलाड़ियों के नाम लिए जिनका शानदार अंतर्राष्ट्रीय करियर होने के बाद भी उनके करियर का अंत अच्छा नहीं रहा। युवराज ने कहा, ‘मुझे लगता है कि उन्होंने मेरे करियर के अंत में मेरे साथ जैसा व्यवहार किया गया, वो काफी गैरपेशवर था। लेकिन जब मैं कुछ और महान खिलाड़ियों जैसे हरभजन सिंह, वीरेंद्र सहवाग, जहीर खान को देखते हूं तो इनके साथ भी अच्छा व्यवहार नहीं हुआ। इसलिए यह हिंदुस्थानी क्रिकेट का हिस्सा है। मैंने ऐसा पहले भी देखा है तो मैं इससे हैरान नहीं था।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन भविष्य में जो देश के लिए इतने लंबे समय के लिए खेला हो, मुश्किल स्थिति से गुजरा हो, आपको उसे निश्चित तौर पर सम्मान देना चाहिए।’