फिर निकला फिलिस्तीन का जिन्न रमजान में शुरू हो गया ‘रोना’

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की सड़कों पर कल एक बार फिर फिलिस्तीन का जिन्न देखा गया। रमजान आते ही मुंबई के मुसलमानों को फिलिस्तीनी मुसलमानों का दर्द सताने लगता है। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी रमजान माह के कल आखिरी जुमे पर फिलिस्तीनी मुसलमानों के लिए मुंबई के मुसलमानों के रोने का क्रंदन सुनाई दिया।
बता दें कि इजराइल द्वारा फिलिस्तीनी मुसलमानों पर किया जा रहा अत्याचार निरंतर जारी है। इस अत्याचार के अलावा मुसलमानों का पहला काबा मस्जिदें अल अक्सा पर भी इजराइल ने लगभग कब्जा कर लिया है। इससे देशभर के मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। फिलिस्तीनी मुसलमानों पर हो रहे अत्याचार के विरोध और मस्जिदें अल अक्सा की आजादी के लिए कल एक बार फिर मुंबई के मुसलमानों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया। दक्षिण मुंबई के दो टांकी परिसर में सुन्नी बिलाल मस्जिद के बाहर बच्चों से लेकर उलेमाओं ने इजरायल के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। सैयद मोइनुद्दीन अशरफ की अगुवाई और रजा अकादमी के बैनर तले यह प्रदर्शन किया गया। इसके अलावा कल गोवंडी शिवाजीनगर में भी विरोधी प्रदर्शन रैली निकाली गई। रजा अकादमी के संस्थापक महासचिव सईद नूरी ने बताया कि रमजान का आखिरी जुमा येरूशलम दिन के रूप में मनाया जाता है। इस दिन जुमे की नमाज के बाद फिलिस्तीनी मुसलमानों की सुरक्षा और मस्जिदें अल-अक्सा की आजादी के लिए दुआ की जाती है। उन्होंने कहा कि फिलिस्तीनियों पर इजरायली अत्याचार मानवता के खिलाफ है।