फिर मैच फिक्सिंग!

समाचार चैनल अल जजीरा ने १५ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों में दो दर्जन से भी अधिक कथित फिक्सिंग के आरोप लगाकर एक बार फिर क्रिकेट में व्यापक भ्रष्टाचार को लेकर सनसनी फैला दी है। इस मामले में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने चैनल से सबूतों की मांग की है। इस रिपोर्ट में २०११ में खेला गया भारत-इंग्लैंड का एक टेस्ट मैच भी शामिल है।
रिपोर्ट के अनुसार कुछ मैचों में दोनों टीमों के खिलाड़ियों पर ही फिक्सिंग के आरोप लगाए गए हैं। चैनल का दावा है कि उसके पास कई चर्चित भारतीय सट्टेबाजों के फोन की रिकॉर्डिंग मौजूद है, जिन्हें इस बात का अंदाज नहीं था कि उनकी बातें रिकॉर्ड हो रही हैं। जिन मैचों में फिक्सिंग के आरोप लगे हैं, उनमें लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर भारत बनाम इंग्लैंड, केपटाउन में दक्षिण अप्रâीका बनाम ऑस्ट्रेलिया और संयुक्त अरब अमीरात में इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच कई मैच शामिल हैं। कई मैचों में तो एक से अधिक बार फिक्सिंग की गई है, जबकि कुल १५ मैचों में २६ बार फिक्सिंग हुई है।
अल जजीरा ने ‘क्रिकेट के मैच फिक्सर, द मुनवर फाइल्स’ के नाम से एक डॉक्युमेंट्री रिलीज की है। डॉक्युमेंट्री में कथित मैच फिक्सर अनिल मुनवर के हवाले से कहा गया कि साल २०११-१२ के बीच वर्ल्ड कप के ३ टी-२० मैच, ३ वनडे और ६ टेस्ट मैचों में करीब २६ बार स्पॉट फिक्सिंग हुई थी। दावा किया गया कि ७ मैचों में इंग्लैंड के खिलाड़ियों द्वारा, ५ मैचों में ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों द्वारा और ३ मैचों में पाकिस्तान के खिलाड़ियों की ओर से फिक्सिंग की गई थी। इसमें २०११ में लॉडर्स के मैदान में भारत-इंग्लैंड के बीच खेले गए टेस्ट मैच, २०११ वर्ल्ड कप के ५ मैच के अलावा २०१२ में श्रीलंका में वर्ल्ड टी-२० मैच भी शक के घेरे में हैं। डॉक्युमेंट्री में २०१२ में इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच हुए ३ टेस्ट मैचों के साथ-साथ इसी साल केपटाउन में ऑस्ट्रेलिया-साउथ अप्रâीका के बीच खेले गए टेस्ट मैच में भी स्पॉट फिक्सिंग की आशंका जताई गई है। अल जजीरा की डॉक्युमेंट्री में रिकॉर्डिंग्स और चित्रों के जरिए ये दावा किया गया कि मुनवर फाइल्स से संबंधित दावों के सबूत अल जजीरा की इन्वेस्टिगेशन टीम के पास हैं। २०११ में कथित मैच फिक्सर मुनवर ने इंग्लैंड के एक खिलाड़ी को कॉल कर एशेज के लिए बधाई देते हुए कहा था कि आपके अकाउंट में बकाया रकम हफ्तेभर में पहुंच जाएगी। इसके जवाब में खिलाड़ी कहता है शानदार। हालांकि जब इस खिलाड़ी (जिसका नाम नहीं बताया गया) से अल जजीरा ने बातचीत की तो उन्होंने साफ तौर पर मना करते इस ऑडियो को झूठा करार दे दिया।