फ्लाईओवर में होल प्रशासन की खुली पोल, तीन साल में ही हुआ जर्जर घटिया सामग्री का इस्तेमाल

वसई इलाके में सड़क और पुल निर्माण में मिलावट और घटिया सामान इस्तेमाल किए जाने का एक ताजा मामला सामने आया है। वसई-पश्चिम से पूर्व को जोड़नेवाली मुख्य सड़क के पुल में बड़ा-सा होल हो गया है। इस होल ने प्रशासन की निर्माण सामग्री और लोगों की सुरक्षा को लेकर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। फिलहाल यातायात पुलिस ने वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए होलवाले स्थान पर बैरिकेट्स लगा दिए हैं। यह पुल पूर्व से पश्चिम को जोड़ता ही है साथ ही मुंबई तथा गुजरात की तरफ जानेवाले लोग भी इसका इस्तेमाल करते हैं।
ज्ञात हो कि वसई में पूर्व से पश्चिम को जोड़ने के लिए दो पुल हैं, जिसमें से एक पुल ३८ साल पुराना होने के कारण पुनर्निर्माण के लिए बंद किया गया है। इसके विकल्प के रूप में वर्ष २०१६ में एक और पुल का निर्माण कराया गया, जो रेलवे लाइन को पार करते हुए वसई शहर को पूर्व से पश्चिम की ओर जोड़ता है। इस घटना के बाद से पुल के कमजोर होने और घातक होने का सबूत सामने आया। वाहनों के लगातार आवाजाही और भारी-भरकम वाहनों के दबाव से पुल पर सड़क के बीच बड़ा होल और दर्रे पड़ गए, जो बड़ी दुर्घटना के लिए काफी हैं।
प्रशासन के खिलाफ लोगों में आक्रोश
कुछ वर्ष पहले ही अंधेरी में हुए पुल दुर्घटना में कई लोगों की जानें गई थीं। जिसके बाद प्रशासन ने सभी पुलों के निरीक्षण और संरक्षण पर गंभीरता दिखाया, मगर यह गंभीरता ज्यादा दिनों तक नहीं रही। ३ साल पुराने पुल के इस तरीके से क्षतिग्रस्त होना और कमजोर होना लोगों के बीच एक आक्रोश का विषय बना हुआ है। फिलहाल यातायात पुलिस ने लोगों की सुरक्षा के लिए एक सुरक्षाकर्मी यहां तैनात कर दिया है और बैरिकेटिंग कर दिया है।