बंगाल में बवाल पर बवाल!, दीदी-मोदी का वार-पलटवार

लोकसभा चुनाव के लिए घमासान चरम पर है। उधर पश्चिम बंगाल में बवाल पर बवाल जारी है। बंगाल में लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के लिए कल रात १० बजे प्रचार खत्म हो गया। इससे आज सीएम ममता बनर्जी की आखिरी सभा नहीं हो पाएगी। इसे लेकर कल सुबह से ही ममता बनर्जी और पीएम नरेंद्र मोदी के बीच शब्द युद्ध छिड़ा हुआ है। दोनों नेता एक-दूसरे पर वार-पलटवार कर रहे हैं।
हालत इतने संगीन हो गए कि सोशल मीडिया पर भी लोगों ने इस पर टिप्पणियां की। एक ने लिखा, ‘इतने बड़े-बड़े नेता लोग अगर इस तरह लड़ेंगे तो साधारण पब्लिक को क्या संदेश जा रहा है, इस पर भी तो विचार करें! देश की जनता काफी जागरूक है, सब समझती है। इससे पहले खुद पीएम मोदी ने सुबह मऊ की रैली में कहा कि आज एक बार फिर से पश्चिम बंगाल में मेरी रैली है। हम देखते हैं कि दीदी वहां मेरी रैली होने देती हैं या नहीं? मोदी ने कहा कि कुछ महीने पहले पश्चिमी मेदिनीपुर में मेरी रैली में टीएमसी ने अराजकता फैलाई थी। इसके बाद ठाकुरनगर में तो ये हालत कर दी गई थी कि मुझे अपना संबोधन बीच में छोड़कर मंच से हटना पड़ा था।
मोदी ने कहा कि चुनाव के समय बंगाल में न हमारे रोड शो होने दिए जाते हैं, न हमारी चुनावी सभा होने दी जाती है। टीएमसी के गुंडे, उनके पीछे सरकार का पूरा प्रशासन और ममता दीदी का मिजाज, ये सब मिलकर लोकतंत्र का खतरा पैदा हुआ है। मोदी ने अमित शाह की रैली के दौरान तोड़ी गई मूर्ति को फिर से पंचधातु की मूर्ति लगवाने की बात कही। इस पर दीदी ने कहा कि वह (पीएम) कहते हैं कि विद्यासागर की मूर्ति बनवाएंगे। बंगाल के पास मूर्ति बनवाने के लिए पैसे हैं। क्या वह २०० साल पुराने धरोहर को लौटा सकते हैं? हमारे पास सबूत है और आप कहते हैं कि टीएमसी ने किया है। आपको शर्म नहीं आती है? इतना झूठ बोलने के लिए उनको उठक-बैठक करना चाहिए। आरोप को साबित करिए अन्यथा हम आपको जेल भेज देंगे।
दीदी ने कहा कि बंगाल को पीएम नरेंद्र मोदी के भीख की जरूरत नहीं है। कल रात मुझे पता चला कि बीजेपी ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज की है कि हम मोदी की मीटिंग के बाद कोई मीटिंग नहीं कर पाएं। चुनाव आयोग तो बीजेपी का भाई है। पहले यह निष्पक्ष संस्था थी और अब देश में हर कोई कह रहा है कि चुनाव आयोग बीजेपी के हाथों बिक चुका है। मुझे दुख होता है लेकिन मेरे पास कुछ कहने के लिए नहीं है। मैं ऐसा बयान (चुनाव आयोग पर दिए बयान) देने के लिए जेल जाने को तैयार हूं। मुझे सच बोलने से डर नहीं लगता है।