बच्चों का भरने को पेट, मां बनी बच्चा चोर

भायखला रेलवे स्टेशन से ३ साल की बच्ची के अपहरण की गुत्थी आग्रीपाड़ा पुलिस ने सुलझा ली है। उक्त बच्ची को पुलिस ने हैदराबाद से सकुशल बरामद कर लिया है। बताया जा रहा है कि ४ बेटों की मां ने बेटी की चाह में एक गरीब महिला से एक बेटी की मांग की थी, जबकि अपने दो बच्चों के लालन-पालन में असमर्थ उक्त गरीब महिला ने पैसों और गृहस्थी के सामान की लालच में बच्ची चुराने का पाप किया था।
बता दें कि शांता (काल्पनिक नाम) १६ दिसंबर को भायखला रेलवे स्टेशन पर अपनी ३ वर्षीय बेटी के साथ बहन का इंतजार कर रही थी। अचानक शांता की बेटी लापता हो गई थी। सीसीटीवी फुटेज में एक महिला बच्ची को उठाकर ले जाती नजर आई। आग्रीपाड़ा पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सावलाराम आगवणे के मार्गदर्शन में पीआईजयदीप गायकवाड व एपीआई नागेश पुराणिक की टीम ने उक्त बच्ची को हैदराबाद से सकुशल मुक्त करा लिया और ३४ वर्षीय नजमा (काल्पनिक नाम) नामक महिला को गिरफ्तार किया। बाद में नजमा से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने २४ वर्षीय शबनम को पुणे से दबोच लिया। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि नजमा को ४ बेटे हैं। उसे एक बेटी की चाह थी, उसने शबनम से कहा कि यदि कोई बच्ची दत्तक देना चाहता हो तो वह उसे बताए। नजमा ने बदले में शबनम को पैसों और राशन आदि देने का वादा किया था। शबनम दो बच्चों की मां है और उसका पति अव्वल दर्जे का शराबी है। शबनम अपने बच्चों का भरण-पोषण नहीं कर पा रही थी। पैसों और राशन के लालच में वह बच्चा चोर बन गई।