बजट भी बिगाड़ती है गर्मी

बिजली की बचत आज वक्त की जरूरत बन चुका है लेकिन मुंबई सहित देशभर में पड़ रही उमसभरी भीषण गर्मी के कारण बिजली की खपत काफी बढ़ गई है। गर्मी से निजात पाने के लिए लोग प्रिâज, पंखा, कूलर, एसी और न जाने कैसे-कैसे इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इन दिनों भले ही यह मजबूरी बन चुका है लेकिन भीषण गर्मी के बावजूद बिजली बचाने का प्रयास अवश्य करना चाहिए। पर्यावरण की दृष्टि से तो यह हमारे और हमारी आनेवाली पीढ़ी के लिए वरदान सिद्ध होगा ही। महंगाई के इस युग में हमारी जेब को भी इससे काफी राहत मिलेगी।

महंगाई और बेरोजगारी आज देश में एक प्रमुख समस्या बन चुकी है। गर्मी बढ़ने के साथ दूध, सब्जी और फलों के दाम आसमान छूने लगे हैं। महंगाई इन दिनों शादी-विवाह के मांगलिक आयोजनों की भरमार की वजह से भी बढ़ी है, इससे कीमतों में करीब २० से २५ प्रतिशत का उछाल आया है। उस पर पैर पसारती मौसमी बीमारियों से गृहिणियों का घरेलू बजट बिगड़ने लगता है। प्रिâज, पंखा, कूलर या एसी जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के इस्तेमाल से आनेवाला बिजली का भारी भरकम बिल आम आदमी के बजट को और बिगाड़ देता है। लोगों को समझ नहीं आता है कि आखिर घर का खर्च वैâसे चलाएं। बिजली का बढ़ा हुआ बिल हम सभी की परेशानियों को और भी अधिक बढ़ा देता है। बिजली का बिल कई घरों में विवाद की वजह भी बन जाता है। ऐसी तमाम समस्याओं से बचने के लिए कुछ सावधानी बरतना बेहद जरूरी होता है। मसलन गर्मी में स्वच्छता का ख्याल रखें। बाहर धूप से आने के बाद तुरंत पानी नहीं पीना चाहिए, खासकर ठंडा पानी, इससे हम बीमारियों से बच सकते हैं और दवाई और इलाज में होनेवाला अनावश्यक खर्च बचा सकते हैं। आमतौर पर हम इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के इस्तेमाल में बेहद लापरवाही बरतते हैं, जैसे आवश्यकता नहीं होने के बाद भी लाइट, पंखे या अन्य उपकरणों को चलता छोड़ देते हैं। जहां आपको कम रोशनी की आवश्यकता होती है, वहां आप हाई वोल्टेज का बल्ब जलाते हैं। लाइट जलाकर उसे बंद करना भूल जाना, फ्रीज को बहुत देर तक खुला रखना आदि आपकी लापरवाही का ही परिचायक है। यह एक सामाजिक अपराध तो है ही, इससे हमारी जेब को भी चपत लगती है। गर्मी के दिनों में यह चपत ज्यादा बढ़ जाती है इसलिए इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल जरूरत के हिसाब से ही करना चाहिए। अनावश्यक उपकरणों को तुरंत बंद कर देना चाहिए। ऐसे कुछ छोटे-छोटे टिप्स, जिन्हें ध्यान में रखकर आप बिजली की बचत कर सकते हैं तथा बिजली के बढ़ते बिल पर काबू पा सकते हैं।

बिजली की कैसे करें बचत
साधारण बल्ब की जगह सीएफएल बल्ब का उपयोग करके आप लगभग ७० प्रतिशत ऊर्जा बचा सकते हैं व सामान्य बल्ब के बराबर रोशनी भी प्राप्त कर सकते हैं।
घर को गर्मी व धूप से बचाने के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाएं।
जिन फ्रीज में डी फ्रास्ट सिस्टम नहीं होता है, उनमें बर्फ अधिक मात्रा में जमती है। इस बर्फ से फ्रीज का कूलिंग पावर कम हो जाता है इसलिए हमेशा  फ्रीज को डीफास्ट कर देना चाहिए।
गर्म खाने को थोड़ा ठंडा करने के बाद ही  फ्रीज  में रखें, इससे ऊर्जा की बचत होती है।
गर्मी से बचाव के लिए एयर कंडीशनर की बजाय सीलिंग पैâन या टेबल फैन का प्रयोग करें, इससे बिजली की बचत होती है। यदि एयर कंडीशनर चलाना भी पड़े तो घर के सभी खिड़की व दरवाजे बंद कर दें।
बाजार में आजकल कई प्रकार के ऑटोमैटिक उपकरण उपलब्ध हैं, जो कुछ देर तक इस्तेमाल न होने पर स्वत: ही बंद हो जाते हैं। बिजली की बचत के लिए इन उपकरणों का प्रयोग करना बेहतर होता है।
फ्रीज के दरवाजे जरूर चैक करें तथा यह देखें कि वो ठीक से बंद हो रहे हैं या नहीं। यदि दरवाजा बंद करने के बाद भी दरवाजे में गैप रहे तो दरवाजे की सील बदलवाएं।