बजट सत्र : राज्यपाल के अभिभाषण का विपक्ष ने किया बहिष्कार

राज्य विधिमंडल के बजट अधिवेशन का पहला दिन हंगामे से शुरू हुआ। राज्यपाल के अभिभाषण का कल विपक्ष ने बहिष्कार किया। पिछले कई वर्षों में अभिभाषण का बहिष्कार करने की यह पहली घटना है। इसके पहले २०१४ में राज्यपाल को विधिमंडल में प्रवेश करने से रोका गया था। राज्यपाल ने कल दोनों सदनों में किए गए अपने बजट अभिभाषण में राज्य में दस लाख करोड़ रुपए के निवेश की योजना के साथ ६० लाख नए रोजगार उपलब्ध करानेवाली उद्योग नीति की घोषणा की।
विधिमंडल के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में बोलते हुए राज्यपाल सी. विद्यासागर राव ने सबसे पहले पुलवामा में हुए आतंकी हमले की कड़ी निंदा की। अपने अभिभाषण में राज्यपाल ने किसानों के लिए विभिन्न उपाय योजना की जानकारी दी, साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था आगामी कुछ वर्षों में एक हजार अरब अमेरिकन डॉलर होने का विश्वास जताया। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए ६० लाख नए रोजगार उपलब्ध करने तथा १० लाख करोड़ रुपए के नए निवेश के लिए नई औद्योगिक नीति राज्य सरकार द्वारा अमल में लाए जाने की घोषणा भी राज्यपाल ने की।

ससून डॉक का आधुनिकीकरण
९३ करोड़ रुपए खर्च कर ससून डॉक का आधुनिकीकरण किया जाएगा। रायगड जिला के करंजा में १५० करोड़ रुपए खर्च कर मछली उतारने की परियोजना का काम शुरू किया जाएगा।
 ५० प्रतिशत घटा प्लास्टिक कचरा
राज्य में प्लास्टिक पर लगाया गया प्रतिबंध का सकारात्मक असर दिख रहा है। प्लास्टिक थैली और थर्माकोल पर लगी बंदी के चलते प्लास्टिक के कचरे में ५० प्रतिशत कमी आने की बात राज्यपाल ने कही है।
 राज्य में १० लाख करोड़ रुपए के निवेश की योजना
 ६० लाख नए रोजगार के लिए नीति