बर्ड फ्लू काअब होगा खात्मा

पशु-पक्षियों को तेजी से अपना शिकार बनानेवाला एवियन इंफ्लूएंजा (बर्ड फ्लू) पर अब नियंत्रण पाया जा सकता है। देश में एवियन इंफ्लूएंजा एच५एन१ के कई हमले हुए हैं और यह पॉल्ट्री के लिए चिंता का विषय बन गया था। बर्ड फ्लू का खात्मा करनेवाले विरकॉन एस नामक कीटाणुनाशक का परीक्षण पिछले दिनों सफल रहा है। पिछले दिनों बिहार में बर्ड फ्लू का कहर मुर्गी के बाद कौओं में भी देखा गया था। बिहार के मुंगेर जिले की असरगंज तहसील के छह गांवों में मृत पक्षियों की आंतों में एवियन इंफ्लूएंजा एच५एन१ स्‍ट्रेन पाया गया था। अकेले मुंगेर जिले में बर्ड फ्लू से करीब १,४०० और पटना में १०० पक्षी मारे गए। देश के कई हिस्सों में बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौत हुई थी।
केमिकल्स कंपनी लैंक्सेस के विरकॉन एस नामक पशु कीटाणुनाशक का इस्तेमाल पटना के संजय गांधी बायोलॉजिकल पार्क में हाल ही में हुए बर्ड फ्लू से प्रभावित पशु-पक्षियों पर किया। बर्ड फ्लू के हमले को रोकने में विरकॉन सफल रहा। उक्त चिड़ियाघर में बर्ड फ्लू रोकने के लिए स्वच्छता कार्य किया और एहतियाती कदम के तौर पर विरकॉन एस का छिड़काव शेर, चीते और तेंदुए पर भी किया गया। स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय परीक्षण प्रयोगशालाओं में किए गए अध्ययनों ने प्रमाणित किया है कि विरकॉन एस बहुत कम समय में ही रोगजनक एवियन इंफ्लूएंजा स्‍ट्रेन्‍स को निष्क्रिय कर देता है। इतना ही नहीं विरकॉन एस कीटाणुनाशक एच५एन८ स्‍ट्रेन्स को भी निष्क्रिय कर सकता है। लैंक्सेस इंडिया का कहना है कि एक लंबे शोध तथा परीक्षण के बाद हमने संक्रामक रोगों से निपटने के लिए विरकॉन एस जैसे प्रभावी उपाय को खोज निकाला है। बर्ड फ्लू के हमले को प्रभावी ढंग से रोकने में अब हम सफल हो रहे हैं।