" /> बस्ती में 32 नये रोगियों के मिलने से प्रशासन के छूटे पसीने!

बस्ती में 32 नये रोगियों के मिलने से प्रशासन के छूटे पसीने!

कोरोना रोगियों की मुख्यमंत्री से शिकायत के जिलाधिकारी बस्ती ने स्वास्थ्य महकमें पर चाबुक तो चला दिया, लेकिन जिले में कोरोना संक्रमित रोगियों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। बुधवार को 32 और कोरोना मरीज मिले हैं। कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 236 हो गई है। इसमें 06 की मौत हुई है व 43 डिस्चार्ज हो चुके हैं। बस्ती में एक्टिव केसों की संख्या 187 है, जिनका मुंडेरवा, रुधौली व मेडिकल कॉलेज के कैली अस्पताल में इलाज चल रहा है। हालांकि स्थानीय प्रशासन ने इसकी पुष्टि नही की है। प्रशासन की ओर से कोरोना से जुड़ी सुचनायें समय से नही दी जा रही हैं, साथ ही समाचार माध्यमों और प्रशासन द्वारा जारी आंकड़ों में भी अक्सर भिन्नता देखी जाती है। जनता में इस बात की चर्चा है कि सूचनायें छिपाने या फिर देर से देने के क्या लाभ हो सकते हैं। पड़ोसी जनपदों में नये मरीजों के मिलने पर बहुत स्पष्ट सूचनायें दी जाती हैं, यहां तक कि वे किस इलाके के हैं रिपोर्ट में यहां तक उल्लेख रहता है।

लेकिन बस्ती जनपद में सिर्फ इतना ही पता चल पाता है कि नये मरीज मिले हैं वे कहां के हैं, उस इलाके में संक्रमण और ज्यादा न फैले इससे जुड़ी जानकारियां दुर्लभ हो जाती हैं। जनपद में कोरोना मरीजों के इलाज में लापरवाही पर बस्ती के डीएम ने सख्ती दिखाते हुए मरीजों के इलाज में लापरवाही पर जिला मुख्यचिकित्सा अधिकारी समेत 7 चिकित्साधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उप्र शासन से सीधे संवाद में मरीजों ने व्यवस्था में खामी और अधिकारियों की पोल खोली थी

जब मामला खुला तो स्वास्थ्य मंत्री ने महकमें के जिम्मेदारों को फटकार लगायी थी। डीएम बस्ती आशुतोष निरंजन ने कहा जिला प्रशासन बस्ती द्वारा कोरोना वायरस की रोकथाम हेतु निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं, जिसके अनुक्रम में यूपी सरकार शासन द्वारा कोरोना मरीजो से लिए गए फीडबैक के अनुसार पाई गई कमियों को दूर किया गया है तथा दोषी अधिकारियों/कर्मचारियों के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही की गई है।