" /> बांद्रा में स्टूडेंट वाॅर!, ८ दिन के कारण नप गया छात्र

बांद्रा में स्टूडेंट वाॅर!, ८ दिन के कारण नप गया छात्र

अधेड़ एवं उम्रदराज लोगों में हताशा और युवकों में आक्रोश बढ़ रहा है। नतीजतन खुदकुशी एवं  हिंसा के मामले बढ़ रहे हैं। पबजी व मोबाइल फोन पर उपलब्ध दूसरे वीडियो गेम छात्रों को हिंसक बना रहे हैं। इन दिनों छात्रों में पेपर कटर रखने का चलन बढ़ा है। मामूली विवाद में छात्र पेपरकटर का इस्तेमाल हथियार के रूप में करने लगे हैं। इसका उदाहरण कल बांद्रा-पूर्व में देखने को मिला। जहां बांद्रा-पूर्व स्थित एक प्रतिष्ठित अंग्रेजी स्कूल के छात्रों ने अपने अन्य सहपाठी छात्र पर पेपर कटर से जानलेवा हमला किया। हमलावर छात्रों में शामिल एक छात्र की उम्र सिर्फ १८ वर्ष ८ दिन बताई जा रही है। महज ८ दिन ज्यादा होने के कारण उक्त छात्र के खिलाफ अब पुलिस वयस्कों की तरह कानूनी कार्रवाई करेगी।
बता दें कि बांद्रा-पूर्व के बेहराम पाड़ा स्थित अहमद झकेरिया नगर निवासी इस्लाम (बदला हुआ नाम) दसवीं कक्षा में पढ़ता है। उसके साथ पढ़नेवाले भारतनगर निवासी २ अन्य छात्रों से १८ मार्च को उस समय कुछ कहासुनी हो गई जब वे सभी बोर्ड की परीक्षा देने गए थे, जिसके बाद इस्लाम व उसके साहपाठी आपस में झगड़ा करने लगे। बताया जा रहा है कि इस्लाम के पड़ोस में रहनेवाला १५ वर्षीय रज्जाक (बदला हुआ नाम) वहां पहुंच गया। रज्जाक ने इस्लाम को उसके सहपाठी छात्रों से बचाने की कोशिश की तो उन लोगों ने कटर से रज्जाक पर जानलेवा हमला कर दिया। इस मामले में निर्मल नगर पुलिस ने वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक शशिकांत भंडारे के नेतृत्व व पीआई फिरोज पठान के मार्गदर्शन में १८ वर्षीय शराफत (बदला हुआ नाम) को गिरफ्तार किया है, जबकि उसके साथी की पुलिस तलाश कर रही है। शराफत की उम्र १८ वर्ष व ८ दिन होने के कारण उसे जुवेनाइल कानून के तहत लाभ नहीं मिलेगा। अर्थात उम्र १८ वर्ष से ८ दिन ज्यादा होने के कारण अशफाक नप गया।