बाबरवंशियों की अजान

अयोध्या में बाबरी विध्वंस को २६ साल पूरे हो चुके हैं। पर आज भी इस विवादित ढांचे के प्रति मुसलमानों का प्रेम कम होता दिखाई नहीं दे रहा है। विवादित ढांचे को गिराए जाने के बाद से हर साल देश के कुछ मुसलमान इसको लेकर स्यापा करते नजर आते हैं। इस साल भी बाबरवंशियों ने न केवल मुंबई में बल्कि पैâजाबाद में भी बाबरी विध्वंस पर अजान देने का काम किया है। मुंबई की लगभग हर मस्जिद के बाहर बाबरवंशियों ने विवादित ढांचे को तोड़े जाने को लेकर अजान दी। वहीं पैâजाबाद में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने ईदगाह के सामने धरना-प्रदर्शन किया और उसी जगह पर बाबरी का ढांचा दोबारा बनाने को लेकर मजिस्ट्रेट को ज्ञापन भी सौंपा।
अयोध्या में २६ साल पहले विवादित ढांचे को ढहाया गया था इसीलिए ६ दिसंबर को मुसलमानों ने काला दिवस करार दिया है। बाबरी विध्वंस को लेकर कल भी मुंबई सहित आस-पास के अधिकांश मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में बाबरवंशी स्यापा करते नजर आए। सपा की ओर से कल दक्षिण मुंबई में बाबरी विध्वंस को लेकर शांतिपूर्वक धरना-प्रदर्शन किया गया। इसके अलावा रजा अकादमी की अपील पर खत्री मस्जिद, मिनारा मस्जिद, हिंदुस्थानी मस्जिद, नवाब मस्जिद के अलावा अधिकांश मस्जिदों के बाहर अजान दी गई और दुआएं मांगी गर्इं। रजा अकादमी के संस्थापक महासचिव सईद नूरी ने बताया कि अजान के बाद दुआएं की गर्इं और उसी जगह पर दोबारा मस्जिद निर्माण करने की मांग की गई। इसके साथ ही वसीम रिजवी द्वारा बनाए जा रहे ‘रामजन्मभूमि’ फिल्म को लेकर उन पर एफआईआर दर्ज करने की भी बांग कल मुसलमानों ने दी है।