बायोमेट्रिक टोकन से होगा रेल यात्रियों का सफर सुहाना

चालू टिकट लेकर रेल सफर करनेवाले यात्रियों को रेलवे एक नई सहूलियत देने जा रही है। रेलवे चालू टिकट धारक यात्रियों को रेल सफर से पहले बायोमेट्रिक टोकन देगी। यह टोकन टिकट निकालते समय ही यात्री को मिल जाएगा। जिसके बाद उक्त यात्री को चालू कोच के बाहर लगे स्वैâनिंग मशीन पर टोकन स्वैâन करने के बाद ही कोच में इंट्री मिलेगी। चालू कोच में जितने बर्थ रहेंगे उसी के आधार पर रेलवे टिकट जारी करेगी। इस सुविधा के शुरू होते ही जहां यात्रियों का सफर सुहाना होगा वहीं चालू कोच की भीड़ पहले की अपेक्षा सीमित हो जाएगी। इसकी शुरुआत मध्य रेलवे पुष्पक एक्सप्रेस ट्रेन से कर रही है।
रेलवे में जनरल टिकट के लिए लोग सुबह से टिकट लेना शुरू कर देते हैं और जनरल डिब्बे के पास लाइन लगाकर खड़े हो जाते हैं। यह लाइन शाम होते-होते इतनी बढ़ जाती है कि चालू टिकट लेकर सफर करने वाले यात्रियों की संख्या हजारों में पहुंच जाती है। भीड़ बढ़ने के साथ ही यात्रियों के बीच बैठने और जल्दी चढ़ने को लेकर मारपीट तक हो जाती है। इसका फायदा कुछ दलाल और कूली उठाते हैं। इस प्रणाली से इस पर रोक लगेगी। मध्य रेलवे आरपीएफ के विभागीय रेल मंडल सुरक्षा आयुक्त के. के. अशरफ ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि इस तरह की योजना चल रही है लेकिन इसे अभी तक अमल में नहीं लाया गया है।
४ घंटे पहले मिलेगा बायोमेट्रिक टोकन
ट्रेन छूटने से ४ घंटे पहले यात्रियों को बायोमेट्रिक टोकन दिया जाएगा। इसे गेट के पास लगे बायोमेट्रिक मशीन पर अंगूठा लगाकर यात्री अंदर जा सकेंगे। इससे जनरल कोच के यात्रियों को एक और सहूलियत होगी कि‍ जि‍तनी जरनल सीटें होंगी, उतनी ही रेलवे टि‍कट जारी करेगा। इससे यात्रियों को यात्रा में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी।