बारिश की बौछार में विदा हुए बाप्पा

ढोल-ताशों की गूंज, गणपति बाप्पा मोरया, पुढच्या वर्षी लवकर या इस जयघोष के साथ कल भक्तों ने भारी बारिश की बौछार के बीच डेढ़ दिवसीय बाप्पा को विदा किया। कल शाम सात बजे तक करीब ७ हजार गणेश की मूर्ति विसर्जित की गर्इं।
मुंबई सहित उपनगरों में कल सुबह से ही जोरदार बारिश हो रही थी। सोमवार को बड़े धूमधाम से घरों में विराजित हुए डेढ़ दिवसीय गणेश की मूर्ति को कल भक्तों ने बारिश के बीच हर्षोल्लास के साथ विदा किया। दोपहर के बाद से ही भक्तगण बाप्पा को विसर्जित करने के लिए निकले थे। देर रात तक विभिन्न विसर्जन स्थलों पर बाप्पा की मूर्ति विसर्जित की गर्इं। भक्तों ने मनपा के ३१ कृत्रिम और ६९ प्राकृतिक विसर्जन स्थलों पर मूर्ति विसर्जित की। विसर्जन स्थलों पर बाप्पा के विसर्जन यात्रा में कोई बाधा नहीं आए इसलिए चौपाटियों पर स्टील प्लेट, लाइफ गार्ड, मोटर बोट आदि की व्यवस्था की गई थी। फूल व हारों के लिए विसर्जन स्थलों पर २०१ निर्माल्य कलश लगाए गए थे। इसके अलावा १,९९१ फ्लड लाइट, १,३०६ सर्च लाइट आदि की व्यवस्था भी विसर्जन स्थलों पर की गई थी।