बाढ़ पीड़ितों के लिए दो ` ६,८०० करोड़! राज्य सरकार की  केंद्र से मांग

बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के लिए केंद्र सरकार से ६ हजार ८०० करोड़ रुपए देने की मांग राज्य सरकार ने की है। यह जानकारी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मुंबई में पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी। कोल्हापुर, सांगली, सातारा के लिए ४,७०० करोड़ रुपए और बाकी भागों के लिए २,१०० करोड़ रुपए की मांग केंद्र सरकार से की है, ऐसा मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सड़कों के लिए ५७६ करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है, ऐसा मुख्यमंत्री ने बताया।
५.६० लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया
राज्य में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में फंसे ५ लाख ६० हजार ९५३ लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में सरकार सफल रही। इनमें कोल्हापुर  के ३ लाख ३६ हजार २९७, सांगली के १ लाख ७४ हजार ९८५ नागरिकों का भी समावेश है।
सीएम सहित सभी मंत्री देंगे एक महीने का वेतन
महाराष्ट्र में आई भीषण बाढ़ में प्रभावित लोगों की मदद के लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस सहित मंत्रिमंडल के सभी मंत्री अपना एक महीने का वेतन देंगे। इसी प्रकार राज्य सरकार के १.५० लाख अधिकारी अपना एक दिन का वेतन बाढ़ग्रस्तों को देंगे। यह जानकारी ‘महाराष्ट्र राज्य पत्रित अधिकारी महासंघ’ की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में दी गई है।
राकांपा ने दिए ५० लाख
‘राकांपा वेलफेयर ट्रस्ट’ की ओर से बाढ़पीड़ितों के लिए ५० लाख रुपए का धनादेश मुख्यमंत्री को सुपुर्द किया गया।
स्वतंत्रता दिवस पर स्नेह भोजन, चायपान का कार्यक्रम रद्द
राज्य के कई जिलों में आई बाढ़ में कई लोगों की मौत हो गई है। आपदा की इस पार्श्वभूमि पर मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने स्वतंत्रता दिवस पर विदेशी राजदूतों व अन्य मान्यवरों के लिए शाम को आयोजित स्नेह भोज व चायपान कार्यक्रम को रद्द कर दिया है।
हजारों लोगों की स्वास्थ्य जांच
सांगली जिले में बाढ़ से प्रभावित १० हजार से अधिक लोगों के स्वास्थ्य की जांच की गई है। सरकारी डॉक्टरों द्वारा ८४ रोगियों का ऑपरेशन किया गया, ४ शवों का पोस्टमार्टम और दो रोगियों की हालत गंभीर है। यह जानकारी डीएम पल्लवी सावले ने दी।
‘युवाशक्ति’ व ‘भागीरथी संस्था’ भी जुटी
कोल्हापुर व सांगली में आई विनाशकारी बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद में ‘युवाशक्ति’ व ‘भागीरथी संस्था’ पिछले कई दिनों से जुटी हुई है। संस्था की अध्यक्षा अरुंधति महाडिक व धनंजय महाडिक के माध्यम से बाढ़पीड़ितों को भोजन, चादर, बिस्कुट, फूड पैकेट आदि सामग्री वितरित की जा रही है। ‘युवाशक्ति’ के पृथ्वीराज महाडिक के नेतृत्व में महाविद्यालय के युवक-युवती, कार्यकर्ता मदद कार्य में जुटे हैं।