" /> बिगड़ती कानून व्यवस्था व निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने बरसाई लाठी

बिगड़ती कानून व्यवस्था व निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने बरसाई लाठी

उत्तर प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था और मंहगाई के विरोध में सपाजनों ने जिला कलेक्ट्रट पर विरोध प्रदर्शन किया। जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपने पहुंचे सपा कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन के दौरान वहां मौजूद पुलिसकर्मियों पर पथराव कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर सपा कार्यकर्ताओं को काबू में किया। लाठी चार्ज के दौरान मौके पर भगदड़ की स्थिती बन गई कार्यकर्ता इधर-उधर गिरते पड़ते भागने लगे। मौके से पुलिस ने कई सपाईयों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह समाजवादी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष किशन दीक्षित के नेतृत्व में सैकड़ों की संख्या में सपा कार्यकर्ता प्रदेश की योगी सरकार का विरोध करने जिला कलेक्ट्रट पर पहुंचे थे। कलेक्ट्रट पहुंचेते ही सपाई सरकार विरोधी नारे लगाते हुए धरने पर बैठ गए। मौके पर पहुंचे एसपी सीटी विकास चंद्र त्रिपाठी ने कार्यकर्ताओं को समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं माने इसी बीच प्रदर्शन उग्र हो गया। सपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस के ऊपर पथराव कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए सपा कार्यकर्ताओं पर काबू पाया और मौके से कई सपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

इस दौरान समाजवादी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष किशन दीक्षित ने बताया कि अपराध पर काबू पाने का ढोग करने वाली प्रदेश के योगी सरकार के राज्या में आए दिन हत्या, लूट, बलत्कार जैसी घटनाएं हो रही है। मंहगाई बेतहाशा बढ़ती जा रही है। आम आदमी का जीना दूभर हो गया है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है और प्रदेश सरकार मजबूर जनता से वसूली में लगी हुई है। प्रदर्शन करने वालों में मुख्यरूप से समाजवादी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष किशन दीक्षित, उपाध्यक्ष आशिष यादव, दीपचंद्र गुप्ता, रविकांत विश्वकर्मा, शुभम, अतुल, मनोज यादव के साथ अन्य सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।