" /> बिन दर्शक दौड़ेंगी गाड़ियां

बिन दर्शक दौड़ेंगी गाड़ियां

किसी भी खेल में उसके दर्शक न हों तो खेल का रोमांच कुछ भी नहीं रहता। बात फिर यदि फॉर्मूला वन रेस जैसे आयोजन की हो तो दर्शकों बिन उसकी गूंज में कोई दम ही न हो। मगर कोरोना महामारी ने फॉर्मूला वन की गूंज को भी ठप्प कर दिया और अब जो आयोजन होगा, वो बिना दर्शकों के होगा। जी हां, फुटबॉल की तरह फॉर्मूला वन सत्र की भी वापसी होने जा रही है। इस सप्ताह ऑस्ट्रिया में फॉर्मूला वन गाड़ियों का शोर तो सुनाई देगा, लेकिन इसे सुनने के लिए दर्शक मौजूद नहीं होंगे। कोरोना के कारण फॉर्मूला वन सत्र ठप्प पड़ गया था और लगभग चार महीने बाद इसकी वापसी हो रही है। छह बार के चैंपियन लुइस हेमिल्टन की निगाहें फेरारी के लीजेंड माइकल शूमाकर के सात खिताबों के रिकॉर्ड की बराबरी करने पर लगी होंगी। उनकी टीम मर्सिडीस भी लगातार सातवीं बार ड्राइवर और कंस्ट्रक्टर्स खिताब जीतना चाहेगी। फॉर्मूला वन सत्र की शुरुआत ऑस्ट्रेलियन ग्रां प्री से मार्च में होती है, लेकिन कोरोना के कारण इसे रद्द कर दिया गया था और तब से अब तक सत्र रुका पड़ा है। फॉर्मूला वन कोरोना से प्रभावित सत्र में बदलाव करने के लिए तैयार हो गया है। वर्ष २०२१ सत्र के लिए ड्राइवरों की घोषणा हो चुकी है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि इस सत्र में कितनी रेस हो पाएंगी, क्योंकि सात रेस रद्द की जा चुकी हैं। अब आठ राउंड यूरोप में होने हैं लेकिन ये सभी पहली बार दर्शकों के बिना होंगे। आठ राउंड अस्थायी कैलेंडर का हिस्सा हैं लेकिन फॉर्मूला वन को उम्मीद है कि अब भी १५-१८ रेस हो सकती हैं, जिससे कई सर्किट को दो-दो रेसों का आयोजन करना पड़ सकता है।