बुनियादी ढांचों के विकासवाला बजट

 ५ हजार करोड़ रुपए की होगी वृद्धि
 शिक्षा, स्वास्थ्य व विभिन्न परियोजना के खर्च में वृद्धि
 ३२ हजार करोड़ का होगा बजट
एशिया की सबसे बड़ी मनपा के रूप में मुंबई मनपा विश्व में पहचानी जाती है। मुंबईकरों को बेहतर सुविधा देने के लिए मनपा हर वर्ष करोड़ों रुपए का प्रावधान अपने बजट में करती है। पिछले दो वर्षों से रियालिस्टिक बजट पेश करनेवाली मुंबई मनपा का आर्थिक वर्ष २०१९-२० का बजट बुनियादी ढांचे के विकासवाला होगा। शिक्षा, स्वास्थ्य और विभिन्न बड़ी परियोजना पर इस वर्ष के बजट में जोर दिया गया है। इसलिए पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष के बजट में ५ हजार करोड़ रुपए की वृद्धि होने की संभावना जताई जा रही है। इस वर्ष का बजट ३२ हजार करोड़ रुपए का हो सकता है।
बता दें कि `जितना काम उतना ही पैसा’, ऐसा रियालिस्टिक बजट बनानेवाले मनपा आयुक्त अजोय मेहता ४ फरवरी को आर्थिक वर्ष २०१९-२० का बजट स्थायी समिति में पेश करेंगे। इस बार शहर की यातायात को सुगम बनाने के लिए कोस्टल रोड, गोरेगांव-मुलुंड लिंक रोड के अलावा जल सुरंग, अग्निशमन दल को सक्षम बनाना, सीवेज वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट के लिए बजट में अधिक निधि का प्रावधान किया जाएगा। कोस्टल रोड के लिए इस बार तीन हजार करोड़ रुपए का प्रावधान बजट में किए जाने के संकेत मनपा अधिकारियों ने दिए हैं। इस बार स्वास्थ्य बजट में भी वृद्धि की जाएगी। मल नि:सारण परियोजना के लिए ६५० करोड़ रुपए का प्रावधान किया जाएगा। पुलों के निर्माण के लिए इस बार बजट में अधिक निधि का प्रावधान किए जाने के संकेत मनपा के पुल विभाग ने दिए हैं।

७५ हजार ५३८ करोड़ का डिपॉजिट
आंध्रा बैंक, यूनियन बैंक, विजया बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, युको बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, युनियन बैंक ऑफ इंडिया ऐसे विभिन्न बैंकों में मनपा का ७५ हजार ५३८ करोड़ रुपए पर बतौर डिपॉजिट जमा है। इस डिपॉजिट के माध्यम से मनपा को करोड़ रुपए का ब्याज मिलता है।