" /> बेटियों पर आफत!, यूपी के तीन जिलों में हुई दरिंदगी, आगरा में महिला डॉक्टर की हत्या

बेटियों पर आफत!, यूपी के तीन जिलों में हुई दरिंदगी, आगरा में महिला डॉक्टर की हत्या

यूपी के आगरा में एसएन मेडिकल कॉलेज की स्त्री रोग विभाग की पीजी की छात्रा योगिता गौतम की हत्या कर दी गई। उसके शव को डौकी क्षेत्र के गांव बमरौली में सुनसान इलाके में फेंक दिया गया। योगिता के सिर पर भारी वस्तु से प्रहार किया गया। बुधवार की सुबह उसका शव मिला। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव भेज दिया है। शाम को शिनाख्त होने पर मृतका के भाई डॉक्टर मोहिंदर कुमार गौतम ने उरई में मेडिकल ऑफिसर डॉ. विवेक तिवारी के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कराया था। इससे पहले थाना डौकी में हत्या का मामला दर्ज किया गया। पुलिस टीम ने देर रात डॉ. विवेक तिवारी को हिरासत में लिया।
२६ वर्षीय योगिता गौतम पुत्री अंबेश गौतम दिल्ली के शिवपुरी कॉलोनी पार्ट २ की रहनेवाली थी। उन्होंने वर्ष २००९ में मुरादाबाद के तीर्थकर मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया था। ३ साल पहले एसएन मेडिकल कॉलेज में पीजी में एडमिशन लिया था, वह नूरी गेट पर लेडी लॉयल अस्पताल के सामने राहुल गोयल के मकान में किराए पर रहती थी। उधर बुधवार सुबह तकरीबन ४.३० बजे डौकी थाना क्षेत्र के गांव बमरौली में सुनसान रास्ते पर उसकी लाश मिली थी। पुलिस ने पहचान न होने पर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा था।
इधर योगिता के भाई डॉक्टर मोहिंदर कुमार गौतम बहन के लापता होने की जानकारी देने थाना गेट आए थे। उधर फतेहाबाद पुलिस ने थानों से जानकारी की। इस पर शव योगिता का होने के बारे में पता चला। परिजनों ने पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर शव की शिनाख्त कर ली। मोहिंदर कुमार गौतम ने पुलिस को बताया कि तीर्थकर मेडिकल कॉलेज में १ साल सीनियर विवेक तिवारी से योगिता की बातचीत होती थी। वह उरई में मेडिकल ऑफिसर है। वह काफी समय से योगिता को धमका रहा था। उस पर शादी का दबाव बना रहा था। योगिता ने उससे बात करना बंद कर दिया था। फोन भी ब्लॉक कर रखा था। उसने धमकी दी थी इस बारे में योगिता ने मां को बताया था, इस पर मोहिंदर मां के साथ योगिता से मिलने आ रहे थे। रात को कमरे पर पहुंचे तो योगिता नहीं मिली। विवेक तिवारी पर ही हत्या का आरोप लगाया है। देर रात पुलिस ने विवेक को हिरासत में ले लिया वह कानपुर के किदवई नगर का रहनेवाला है। योगिता जिस घर में रहती थी, उस में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। इसमें मंगलवार रात को वह सात बजकर बीस मिनट पर घर से निकलती दिख रही है। एक कार घर के सामने खड़ी है। कार की लाइट जलती हैं, इसके बाद योगिता कार की तरफ जाती दिख रही है। पुलिस ने स्मार्ट सिटी के कैमरों की रिकॉर्डिंग चेक किए लेकिन कार नजर नहीं आई है। योगिता ने जान बचाने के लिए संघर्ष किया था, उसके नाक हाथों पर नाखूनों के निशान हैं। हाथ में टूटे हुए बाल थे। नाखूनों में भी कुछ फंसा था। इससे आशंका है कि उसने बचने की कोशिश की थी लेकिन बच नहीं पाई। इसके बाद शव को बमरौली गांव के सुनसान इलाके में फेंक दिया गया। घटनास्थल पर संघर्ष के निशान नहीं थे। जिस जगह सब फेंका गया, वहां आगे का रास्ता बंद था।

गोरखपुर में छात्रा से छेड़खानी
गोरखपुर। सहजनवां क्षेत्र के एक गांव की छात्रा के साथ घघसरा बाजार स्थित कोचिंग सेंटर पर शिक्षक ने छेड़खानी की और विरोध करने पर बदनाम करने की धमकी दी। पुलिस ने तहरीर देने के बावजूद मुकदमा दर्ज नहीं किया और आरोपी को एक प्रभावशाली व्यक्ति के दबाव पर थाने से छोड़ दिया। लोगों के अनुसार घर से किशोरी रोज की तरह सुबह कोचिंग सेंटर गई थी। सभी विद्यार्थियों के कोचिंग से जाने के बाद शिक्षक ने महत्वपूर्ण विषय का नोट देने के बहाने छात्रा को रोक लिया। इस दौरान छात्रा से छेड़छाड़ करने लगा। छात्रा के विरोध करने पर धमकाया। छात्रा ने घर पहुंचकर आप-बीती बताई। थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने कहा कि शिक्षक पर लगाए गए आरोपों की जांच में पुष्टि के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

भदोही में दुष्कर्म के बाद हत्या
भदोही। उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में शहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में दो दिन पहले एक १०वीं की छात्रा लापता हुई थी, जिसका शव बुधवार को नदी में उतराता हुआ मिला, जिसके बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा था लेकिन गुरुवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद नया मोड़ आ गया है। दुष्कर्म के बाद हत्या और पहचान छिपाने के लिए तेजाब से जलाने की आशंकाओं पर पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने पानी फेर दिया। रिपोर्ट में पानी में डूबने के कारण मौत की बात सामने आई है। तेजाब से जलने की आशंका पर चिकित्सक का कहना है कि कई बार ज्यादा देर तक शव के पानी में रहने के कारण जलने जैसा दिखने लगता है। इसके बाद पुलिस अधीक्षक रामबदन सिंह ने अंतिम संस्कार के लिए शव को लेकर जा रहे परिजनों को वापस बुला लिया और छात्रा के शव का दोबारा पोस्टमार्टम कराने का निर्देश दिया है।