बेस्ट का एमएमआरडीए पर रु.आठ करोड़ का बकाया, बीकेसी से बांद्रा के बीच बंद हो सकती है सेवा

आर्थिक संकट से जूझ रही बेस्ट को हमेशा आय बढ़ाने के लिए कई सलाह दी जाती है लेकिन राज्य सरकार के ही प्राधिकरण एमएमआरडीए ने बेस्ट का करीब आठ करोड़ रुपए का बकाया कर रखा है। बीकेसी से बांद्रा स्टेशन तक बस चलाने के लिए हुए करार के तहत एमएमआरडीए ने अभी तक बेस्ट प्रशासन को भुगतान नहीं किया जिससे यह सेवा अब बंद करने की नौबत बेस्ट के समक्ष आन पड़ी है।
मेक इन इंडिया के तहत बांद्रा-कुर्ला कांपलेक्स की यातायात व्यवस्था को मजबूत करने के लिए एमएमआरडीए ने २५ हाइब्रिड बसें बेस्ट को चलाने के लिए दिया था। इसका शुभारंभ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किया था। इसके लिए एमएमआरडीए ने बेस्ट के ड्राइवरों को विशेष प्रशिक्षण भी दिया था। बिजली और डीजल पर चलनेवाली ये बसें बीकेसी से कुर्ला, बांद्रा और सायन के बीच चलाई जाती हैं जबकि मिनी बसें बोरीवली, ठाणे और नई मुंबई के बीच चलाई जाती हैं। इस बस के संचालन के लिए एमएमआरडीए के साथ करार हुआ था। इसके तहत बसों की मरम्मत का खर्च, ड्राइवर व कंडक्टर का वेतन एमएमआरडीए को देना अनिवार्य है लेकिन एमएमआरडीए ने बेस्ट द्वारा बिल भेजने के बाद भी आठ करोड़ रुपए का बकाया कर रखा है। यह मुद्दा कल बेस्ट समिति की बैठक में उपस्थित किया गया। इस बकाए को लेकर बेस्ट महाप्रबंधक सुरेंद्र बागडे ने बीकेसी से बांद्रा के बीच चलनेवाली सेवा को बंद करने का संकेत दिया।