बेस्ट की ‘तेजस्विनी’

बेस्ट बसें मुंबई की दूसरी लाइफ लाइन मानी जाती हैं। यात्रियों का सफर सुरक्षित और सुखदायक हो, इसके लिए बेस्ट प्रशासन विभिन्न उपाय योजना करता रहा है। इसी कड़ी में प्रशासन महिलाओं की सुविधा के लिए तेजस्विनी नाम से लेडिज स्पेशल बस सेवा शुरू कर रहा है। आगामी सप्ताह से तेजस्विनी मुंबई की सड़कों पर दौड़ती हुई नजर आएगी। इन बसों को खरीदने के लिए केंद्र सरकार ५० प्रतिशत अनुदान दे रही है।
३७ तेजस्विनी मुंबई की सड़कों पर
बेस्ट प्रशासन के बेड़े में ३७ तेजस्विनी बसें शामिल होंगी। शुरुआत में तीन बसें ही बेड़े में शामिल हो पाई हैं। शेष ३४ बसें भी इसी माह आ जाएंगी। शुरुआत में ये बसें छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस से एनसीपीए के बीच दौ़ड़ेंगी।
बस की खासियत
इन बसों में केवल महिला यात्री ही सफर कर सकेंगी। खास बात ये है कि इन बसों के ड्राइवर और कंडक्टर की कमान महिलाओं के हाथों में होगी। ३५ सीटोंवाली यह डीजल बसें बिना वातालुकूलित होंगी।
३७ मार्गों पर दौड़ेगी तेजस्विनी
बेस्ट के उपजनसंपर्क अधिकारी मनोज वराडे की मानें तो पंजीयन प्रक्रिया पूरी होने के बाद शहर और उपनगरों के ३७ मार्गों पर ये बसें चलाई जाएंगी। इस बस का सबसे ज्यादा लाभ नौकरीपेशा महिलाओं व छात्राओं को होगा।
व्यस्ततम समय पर चलेगी
वर्ष २०११ जनगणना के मुताबिक करीब १९ फीसदी महिला शहर में और १८.३ फीसदी महिलाएं उपनगरों में काम करती हैं। इसके साथ ही रोजाना सात लाख महिलाएं बस से यात्रा करती हैं। नौकरीपेशा महिलाओं और छात्राओं के लिए व्यस्ततम समय में ये बसें चलेंगी। सवेरे ७ से दोपहर ११ बजे और शाम ५ बजे से रात ९ बजे तक ये बसें विभिन्न मार्गों पर चलेंगी। बढ़ती मांग को देखते हुए अन्य समयों में भी ये बसें चलाने की प्रशासन की योजना है।