बेस्ट मांगे `ई-बस’ मोर

बेस्ट प्रशासन द्वारा मुंबईकरों को अधिक सुविधाएं देने और ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए `ई-बस’ पर विशेष जोर दिया जा रहा है। ऐसे में आगामी जून महीने से मुंबईकरों को नई २० ई-बसें मिलेंगी। वर्तमान में ई-बसें एक बार चार्ज करने पर ७० किमी, घंटे की रफ्तार से २०० किमी की दूरी तय करती हैं।
बता दें कि ई-बस मुंबईकरों के लिए अधिक सुविधाजनक है। एक तरफ इन बसों में अन्य डीजल और सीएनजी से चलनेवाली बसों की तुलना में किराया कम लगता है, वहीं दूसरी तरफ सुविधाएं भी अधिक मिलती हैं। ई-बस ९ रु. किमी. की दर से चलती है, वहीं सीएनजी बस १५ रु. किमी. और डीजल बस २० रु. किमी से चलती है इसलिए बेस्ट का ध्यान वर्तमान में ई-बसों की तरफ ज्यादा केंद्रित है। इसके अलावा भंगार बसों के कारण घाटे में चल रही बेस्ट अब दोबारा अपनी बसों की संख्या बढ़ाने में लगी हुई है। बेस्ट बसों की संख्या ४,५०० से गिरकर वर्तमान में मात्र ३,३०० रह गई है, जिसका परिणाम प्रशासन को भुगतना पड़ रहा है। बेस्ट कमिटी के सदस्य सुनील गणाचार्य ने बताया कि भंगार में रखी बसों में से जिन बसों के कुछ हिस्से उपयोग में लेने लायक हैं, उनका उपयोग बेस्ट करेगी। बेस्ट का लक्ष्य बसों की संख्या को मार्च २०२० तक दोबारा ४,०५० तक बढ़ाना है।