" /> बैडमिंटन में चैलेंज

बैडमिंटन में चैलेंज

ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन ओपन सुपर सीरीज शुरू हो चुका है। यह टूर्नामेंट १५ मार्च तक चलेगा। कोरोना वायरस के कारण कई बैडमिंटन टूर्नामेंट रद्द हो रहे हैं। ऐसे में टोक्यो ओलिंपिक के लिए कोटा हासिल करने के लिए भारतीय खिलाड़ियों के पास बहुत कम मौके बचे हैं। ओलिंपिक में ब्रॉन्ज जीतनेवाली साइना नेहवाल और पूर्व वर्ल्ड नंबर-१ किदांबी श्रीकांत अभी तक टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई नहीं कर पाए हैं। पीवी सिंधु, साईं प्रणीत और सात्विक साईराज और चिराग शेट्टी की जोड़ी ओलिंपिक के लिए पहले ही क्वालिफाई कर चुकी है। सिंधु पिछले साल वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने के बाद से ही खराब फॉर्म से जूझ रही हैं। पिछले साल सितंबर में वे फ्रेंच ओपन और इस साल जनवरी में इंडोनेशिया मास्टर्स के क्वार्टर फाइनल तक ही पहुंच पाईं। लिहाजा हिंदुस्थान की इस स्टार शटलर के लिए ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन सीरीज बेहद अहम हो जाती है। अगर वे यहां फाइनल तक पहुंचती हैं तो टोक्यो का टिकट पक्का हो सकता है। सिंधु ने कहा है कि कोरोना वायरस से बचने के लिए एहतियात के तौर पर वो इस टूर्नामेंट में हाथ मिलाने की बजाय नमस्ते करेंगी।