" /> बॉक्सिंग के बहादुर

बॉक्सिंग के बहादुर

विश्व चैंपियनशिप कांस्य पदक विजेता मनीष कौशिक (६३ किग्रा) और एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता आशीष कुमार (७५ किग्रा) ने महाद्वीपीय ओलिंपिक मुक्केबाजी क्वालिफायर्स के क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाई। कई दिनों बाद बॉक्सिंग में ये नए चेहरे उदय हुए हैं। बता दें कि मनीष को ताईवान के चु एन लाई पर ५-० से जीत दर्ज करने में कोई समस्या नहीं हुई। अब राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता मनीष का सामना मंगोलिया के तीसरे वरीय चिंगजोरिग बातारसुख से होगा। बातारसुख ने पापुआ न्यू गिनी के जोन उमे को पराजित किया। वहीं सुबह के सत्र में आशीष ने किर्गीस्तान के चौथी वरीयता प्राप्त ओमुरबेक बेकजीगिट पर एकतरफा मुकाबले में ५-० से जीत दर्ज की। उनका अगला मुकाबला इंडोनेशिया के मिखाइल राबर्ड मुसकिता से होगा। एशियन चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता आशीष ताईवान के कान चीया-वेई पर भारी पड़े। भारतीय मुक्केबाज ने ५-० की दमदार जीत दर्ज करके प्री-क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाई थी। एशियाई चैंपियनशिप-२०१९ के रजत पदक विजेता आशीष चौधरी ने बाउट जीतने के बाद खुशी व्यक्त की और कहा कि ओलंपियन बनना मेरे लिए लिए सब कुछ है। ओलंपिक में भाग लेना किसी भी खिलाड़ी का सपना होता है। आशीष चौधरी ने इस जीत का श्रेय बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, प्रदेश बॉक्सिंग फेडरेशन, जिला खेल अधिकारी एवं कोच नरेश वर्मा व परिजनों सहित मित्रों को दिया है। मुसकिता ने न्यूजीलैंड के रेयान स्कीफी को हराकर अंतिम आठ में प्रवेश किया। आशीष अगर सेमीफाइनल में जगह बनाने में सफल रहे तो उनकी जुलाई अगस्त में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में जगह पक्की हो जाएगी। महिला मुक्केबाज सिमरनजीत कौर (६० किग्रा) और साक्षी चौधरी (५७ किग्रा) ने भी क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाई थी। सिमरनजीत ने कजाखस्तान की रिम्मा वोलोसेंको को ५-० से जबकि साक्षी ने थाईलैंड की निलावान टेकसुएप को ४-१ से हराया। सिमरनजीत का सामना अब मंगोलया की दूसरी वरीय नुमुन मोंखोर से होगा जिन्होंने पिछले साल एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था। अंतिम आठ में साक्षी का सामना कोरिया की इम एइजी से नौ मार्च को होगा।