" /> बॉलीवुड को ₹2,000 करोड़ का फटका!

बॉलीवुड को ₹2,000 करोड़ का फटका!

सिनेमा और शूटिंग बंद होने से बेचैन हैं फिल्मवाले

कोरोना वायरस के कारण बॉलीवुड ठप पड़ा है। न तो फिल्में रिलीज हो रही हैं, न शूटिंग हो रही है और न ही कहीं कोई पोस्ट प्रोडक्शन चल रहा है। ऐसे में बॉलीवुड की आर्थिक गतिविधि ठप है। केंद्र सरकार ने जब से देश में लॉकडाउन किया है तब से बॉलीवुड ठप है। फिल्म ट्रेड के जानकारों का कहना है कि अभी तक पिछले 2 महीने में बॉलीवुड को करीब ₹2,000 करोड़ का फटका लग चुका है। इसके साथ ही अगर लॉकडाउन लंबा चलता है तो बॉलीवुड से जुड़े लाखों छोटे कर्मचारियों के सामने भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो जाएगी। इसलिए बॉलीवुड से जुड़ी कुछ हस्तियों ने सरकार से गुहार लगाई है कि ‘जिस तरह कुछ अन्य उद्योग-धंधे को शुरू करने की अनुमति दी जा रही है, उसी तरह सिने उद्योग को भी कुछ नए नियम-शर्तों के साथ शुरू करने पर विचार किया जाए।’ मगर दिक्कत यह है कि बॉलीवुड का केंद्र मायानगरी मुंबई रेड जोन में है, इसलिए फिलहाल बॉलीवुड के कामकाज शुरू होने के आसार नहीं दिख रहे।
फिल्म निर्देशक व कंपोजर दुष्यंत प्रताप सिंह, अभिनेता पंकज बेरी, जैद शेख, अभिनेत्री कविता त्रिपाठी, सोनिया शर्मा, अर्जुमन मुगल के अलावा ट्रेड एनालिस्ट अतुल मोहन व प्रचार क्षेत्र के दिग्गज योगेश लखानी, संगीतकार अंजान भट्टाचार्य आदि का कहना है कि छोटी टीम के साथ पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था के साथ शूटिंग करने की अनुमति दी जानी चाहिए। अगर फिल्म इंडस्ट्री को बचाना है तो कलाकारों व तकनीशियनों हेतु कुछ आर्थिक छूट, निर्माताओं को टैक्स में छूट देने के साथ ही फिल्म उद्योग से जुड़े सभी लोगों को कोई पहचान पत्र जारी किया जाना चाहिए। इस पूरे अभियान को #savebollywood हैशटैग दिया गया है। अभिनेता पंकज बेरी का कहना है कि प्रवासी तकनीशियन बेहद मुश्किल दौर में हैं, उन्हें तत्काल मदद की जरूरत है। वहीं अभिनेत्री कविता त्रिपाठी के मुताबिक बड़े फिल्म स्टार्स को कम तकलीफ है। लेकिन छोटे कलाकार इस वक्त क्या करें। उनके लिए कोई मदद फौरी तौर पर मिलनी चाहिए। दुष्यंत का कहना है कि तकरीबन डेढ़ लाख लोग प्रत्यक्ष रूप से भारतीय सिनेमा से जुड़े हुए हैं जो रोजाना काम कर अपनी आजीविका चलाते हैं। उनके संसाधन खत्म हो चुके हैं। अगर प्रवासी तकनीशियन का पलायन हुआ तो फिर काम करना संभव ही नहीं होगा। वहीं ट्रेड एनालिस्ट अतुल मोहन के अनुसार भारतीय सिनेमा जगत को पिछले सवा 2 महीने में तकरीबन दो हजार करोड़ का नुकसान हो चुका है, जिसकी भरपाई सिनेमा जगत शायद ही कर पाएगा। अभिनेत्री सोनिया शर्मा के अनुसार यह सही वक्त है, जब भारत सरकार हमारे साथ खड़े हो क्योंकि कलाकार हमेशा अपने देश के लिए अपना सर्वोत्तम प्रस्तुत करते हैं। अभिनेता जैद शेख के मुताबिक यह समय एक अवसर भी है। अगर सरकार ने साथ दिया तो भारतीय सिनेमा विश्व के सिनेमा जगत को एक नई सोच दे सकता है। संगीतकार अंजान भट्टाचार्य संगीत जगत को लेकर बेहद व्यथित हैं। उनके मुताबिक बॉलीवुड नाजुक दौर से गुजर रहा है और इसे बचाने के बारे में हम सबको सोचने की जरूरत है।