बोल्ड किरदार निभाने में आपत्ति नहीं- अलिस्मिता गोस्वामी

हिंदुस्थान के पूर्वोत्तर की खूबसूरत वादियों से निकल कर आनेवाली फिल्म ‘ब्लैक बोर्ड -व्हाइट बोर्ड’ के जरिए बॉलीवुड में कदम बढ़ाने जा रही हैं अदाकारा अलिस्मिता गोस्वामी। वैसे असमिया फिल्मों व वीडियो एलबम के जरिए रुपहले परदे पर वे पहले ही धूम मचा रही हैं लेकिन इस बार हिंदी सिनेमा के क्षेत्र में उनका यह पहला महत्वपूर्ण कदम है। प्रस्तुत है अलिस्मिता गोस्वामी से सोमप्रकाश ‘शिवम’ की हुई बातचीत के प्रमुख अंश।

आनेवाली फिल्म `ब्लैक बोर्ड व्हाइट बोर्ड’ में आपका क्या किरदार है?
मेरा इस फिल्म में एक सशक्त महिला रिपोर्टर का किरदार है, जो देश में शिक्षा की बदहाली पर आवाज उठाती है और उसे सरकार तक पहुंचाने में अहम भूमिका स्थापित करती है।
आपको पहली बार सिनेमा के क्षेत्र में पत्रकार की भूमिका निभाने के लिए किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा?
वाकई बहुत मुश्किल था मेरे लिए यह सब कर पाना। मैंने इस किरदार को निभाने से पहले यू ट्यूब व टीवी न्यूज चैनल पर बहुत सारे न्यूज एंकरों को देखा व सुना। मैं पत्रकारिता में डिप्लोमा किए हुए थी तो मुझे समझने व करने में ज्यादा कठिनाई नहीं हुई।
रघुवीर यादव जैसे दिग्गज कलाकार के साथ काम करने का आपका क्या अनुभव रहा?
रघुवीर जी अपने आप में एक अभिनय की पाठशाला हैं। वह जब अभिनय करते हैं तो लगता ही नहीं है कि उन्होंने कब एक्टिंग कर दी। मुझे बेहद खुशी है कि मुझे पहली बार में ही इतने बड़े दिग्गज कलाकार के साथ काम करने का अवसर मिला।
अब आगे किस क्षेत्र में काम करना ज्यादा पसंद करेंगी। फिल्म या टीवी धारावाहिक?
मैं एक कलाकार हूं। हमेशा अच्छे किरदार की तलाश में रहती हूं। मुझे राधिका आप्टे द्वारा अभिनीत सशक्त भूमिकाएं निभाने में ज्यादा दिलचस्पी है। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि टीवी हो या सिनेमा मैं हर जगह काम करूंगी।
नई लड़कियों को सिनेमा में ग्लैमरस या बोल्ड किरदारों से ज्यादा रू-ब-रू होना पड़ता है। आप किसके साथ जाना पसंद करेंगी?
आपने बिल्कुल सही पूछा। सच कहूं तो मुझे ग्लैमरस या बोल्डनेस किरदान निभाने में कोई आपत्ति नहीं है। बशर्ते कहानी की मांग और अच्छा बैनर होना चाहिए।