भाजपा-जेडीयू १७-१७ एलजेपी ६ सीटों पर लड़ेगी, बिहार में एनडीए की सीट शेयरिंग फाइनल

बिहार में २०१९ के लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए में सीटों का बंटवारा हो गया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर हुई बैठक के बाद भाजपा-जेडीयू-एलजेपी की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी घोषणा की गई है। इस बैठक में बिहार सीएम नीतिश कुमार, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उनके बेटे सांसद चिराग पासवान भी मौजूद रहे। इस घोषणा के बाद शाह ने जहां २०१९ में २०१४ से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया, वहीं नीतिश कुमार ने कहा है कि एनडीए बिहार में २००९ से भी अधिक सीटें जीतेगी।
घर पर बैठक के बाद शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि लंबी चर्चा के बाद तय हुआ है कि भाजपा, जेडीयू १७-१७ और एलजेपी ६ लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। शाह ने कहा कि रामविलास पासवान को आगे आनेवाले राज्यसभा चुनाव में एनडीए का प्रत्याशी बनाया जाएगा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि एनडीए की गठबंधन की स्ट्रेंथ को देखकर तीनों पार्टियों ने फैसला लिया है। जल्द ही एनडीए का राजनीतिक एजेंडा लोगों के सामने लेकर जाएंगे। इसके बाद नीतीश कुमार ने कहा कि जब अमित शाह ने घोषणा कर दी तो उसके बाद कुछ बोलने की आवश्यकता नहीं है।

‘५६ इंच के सीनेवाले नीतिश के आगे नतमस्तक’
पटना। बिहार में एनडीए का साथ छोड़कर महागठबंधन के साथ आए उपेंद्र कुशवाहा ने राज्य में २०१९ लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सीट बंटवारे को लेकर एनडीए पर निशाना साधा। बिहार में भाजपा और जेडीयू के बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा को लेकर कुशवाहा ने कहा कि ५६ इंच के सीनेवाले नीतिश के सामने नतमस्तक हो गए, वहीं आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी कहा कि एनडीए की हालत पतली है। महागठबंधन के साथ आकर दम भरनेवाले आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने बिहार में एनडीए के सीट बंटवारे से जुड़े समीकरण पर भाजपा को नतमस्तक बताया है। कुशवाहा ने कहा कि बीजेपी के लोग ज्यादा कहते थे कि ५६ इंच का सीना है तो ५६ इंच के सीनेवाले नतमस्तक हो गए नीतीश कुमार के सामने और आधा-आधा बंटवारा कर दिया। उन्होंने कहा कि किसको कितनी सीटों पर लड़ना है? इससे जनता को कोई मतलब नहीं है।