भाजपा पर भड़के अयोध्या के संत महंत

अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि मंदिर आंदोलन के रथ पर सवार होकर सत्ता के शीर्ष पर पहुंची भाजपा पर अयोध्या के संत कुपित हैं। इसका कारण है कि भाजपा ने संतों व देशवासियों से किया अपना वादा पूरा नहीं किया। भाजपा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए श्री राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास और श्री राम जन्मभूमि पर विराजमान भगवान रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने भाजपा को खूब खरी-खोटी सुनाई है। महंत नृत्य गोपाल दास कहते हैं कि भाजपा का जन्म ही राम मंदिर के निर्माण के लिए हुआ था। श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण उनके एजेंडा हो या ना हो, भाजपा को राम मंदिर का निर्माण करवाना ही होगा। देश की जनता को सब पता है, भाजपा का कर्तव्य है कि वह राम मंदिर के निर्माण में भागीदार हो।
इसी तरह श्री राम जन्मभूमि पर विराजमान भगवान रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि जो भाजपा अपने बयान से पलट रही है, उसी भाजपा के नेता चुनाव से पहले कहते थे कि उनकी सरकार बनी तो मंदिर उनकी प्राथमिकता में रहेगा। अब कह रहे हैं कि राम मंदिर निर्माण उनके सरकार के एजेंडे में नहीं है। अब भाजपा नेता ये बयान दे रहे हैं कि भाजपा का काम राम मंदिर बनवाना नहीं बल्कि सहयोग करना है, वह झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि के मुद्दे पर चतुराई पूर्वक बात करनेवाले भाजपा नेताओं का बयान झूठा है। श्री सतेंद्र दास ने कहा कि भाजपा पहले ही बोल चुकी है कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर का निर्माण उसके एजेंडे में है। मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि भाजपा के नेता सब कुछ जानते हैं फिर भी कुछ भाजपा नेता किस तरह का बयान दे रहे हैं। यदि श्री राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का काम लोकसभा चुनाव २०१९ के पहले शुरू नहीं हुआ तो भाजपा को २०१९ के लोकसभा चुनाव में बहुत कठिनाई होगी। बता दें कि स्थानीय भाजपा सांसद लल्लू सिंह व केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला अयोध्या में बयान दे चुके हैं कि सरकार का काम मंदिर बनाना नहीं है, जनता व संत-महंत श्रीराम मंदिर का निर्माण करेंगे।