भाजपा में भगदड़!

 जिला से प्रदेश स्तर तक भागमभाग   बगावत को तैयार बैठे हैं कई भाजपाई
महाराष्ट्र में भाजपा की सरकार जाने के साथ ही भगदड़ मचनी शुरू हो गई है। यह भगदड़ प्रदेशस्तर से लेकर जिलास्तर, महानगरपालिका, नगरपालिका, ग्राम-पंचायत तक मचनी शुरू है। खबर है कि भाजपा नेता व पूर्व मंत्री पंकजा ताई मुंडे आगामी १२ दिसंबर को दिवंगत गोपीनाथ मुंडे की जयंती पर ‘विस्फोट’ करनेवाली हैं। इस खबर से भाजपा नेताओं के हाथ-पांव फूल गए हैं। भाजपा नेताओं को यह डर सताने लगा है कि पंकजा मुंडे अगर भाजपा से बगावत कर किसी अन्य दल में शामिल हुर्इं तो पूरी भाजपा में हड़कंप मच जाएगा। भाजपा नेताओं को राकांपा नेताओं के बयानों से डर सताने लगा है। राकांपा नेता अजीत पवार और प्रदेश राकांपा अध्यक्ष जयंत पाटील सार्वजनिक तौर पर कह रहे हैं कि भाजपा के २५ से ३० विधायक हमारे संपर्क में हैं, जिसे भाजपा ने आयात किया था। इसके अलावा लातूर महापालिका में भाजपा का पूर्ण बहुमत होने के बाद भी लातूर महापालिका पर कांग्रेस का महापौर विराजमान हुआ। इसी प्रकार उल्हासनगर महानगरपालिका में भाजपा का बहुमत होने के बाद भी शिवसेना का महापौर बना। उक्त स्थितियों को भांपकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटील बार-बार यही दुहाई दे रहे हैं कि शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस महाविकास आघाड़ी की सरकार अधिक दिन तक नहीं चलेगी, ताकि भाजपा कार्यकर्ताओं को रोककर रखा जा सके। सबसे बड़ी बात यह है कि भाजपा जिला अध्यक्षों का चुनाव होनेवाला है। इस चुनाव में और भदेस मचने की संभावना है। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक अब तक देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ खुली बगावत करने की किसी की हिम्मत नहीं पड़ती थी क्योंकि भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे को जिस प्रकार से ठिकाने लगाया गया, वरिष्ठ भाजपा नेता विनोद तावड़े, प्रकाश मेहता, चंद्रशेखर बावनकुले का टिकट काटा गया। इससे फडणवीस के खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत किसी में नहीं थी। भाजपा सूत्रों के मुताबिक अगर १२ दिसंबर को पंकजा मुंडे ने बगावत करके अन्य दल में जाने की घोषणा कर दी, जैसा कि कहा जा रहा है तो भाजपा में ऐसी भगदड़ मचेगी फडणवीस क्या मोदी व शाह भी उसे नियंत्रित नहीं कर पाएंगे। यही कारण है कि पंकजा मुंडे के दूसरे दल में जाने की खबर आने के बाद प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटील ने संवाददाता सम्मेलन लेकर भाजपा में पैâले संभ्रम को दूर करने का प्रयत्न किया। भाजपा में जिलास्तर से लेकर पंचायतस्तर तक जिस प्रकार से सत्ता जाने के बाद अफरा-तफरी मची हुई है, उससे भाजपा नेता परेशान हैं। इस भगदड़ को चंद्रकांत दादा पाटील संभाल पाएंगे। इसकी संभावना कम है, ऐसा दावा भाजपा सूत्रों ने किया है।

पंकजा करेंगी विस्फोट! भाजपा है परेशान
भाजपा नेता व पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे आगामी १२ दिसंबर को दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की जयंती के दिन बड़ा विस्फोट करनेवाली हैं। ऐसी चर्चा है कि १२ दिसंबर को पंकजा मुंडे भाजपा छोड़ने का एलान कर सकती हैं। इस चर्चा को लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के हाथ-पांव फूलने लगे हैं कि पंकजा ताई ने भाजपा छोड़ा तो अन्य दलों से आयात किए गए नेता भी भागने लगेंगे। इसलिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व विधायक चंद्रकांत दादा पाटील और पूर्व मंत्री विनोद तावडे ने संवाददाता सम्मेलन लेकर भाजपा में छाई अस्थिरता को दूर करने का प्रयास किया।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत दादा पाटील ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पंकजा ताई मुंडे को अन्य दलों में जाने की बात केवल अफवाह है। पंकजा ताई भाजपा में हैं और भाजपा में ही रहेंगी, ऐसा पाटील ने स्पष्ट किया। ऐसी चर्चा है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री व वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने एक-एक करके भाजपा में जो भी ओबीसी नेता महाराष्ट्र में थे, उनको ठिकाने लगा दिया। चाहे वह एकनाथ खडसे हों या कोई अन्य नेता। ओबीसी आरक्षण का मामला रोककर रखने का प्रतिकूल असर पड़ा, जिसके कारण पंकजा मुंडे को हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा पंकजा मुंडे भाजपा के उन वरिष्ठ नेताओं के नामों का भी खुलासा करेंगी, जिन्होंने उन्हें हराने में कथित रूप से भूमिका निभाई है। हालांकि पंकजा ने कथित नेताओं के बारे में वरिष्ठों को बता भी दिया है। आगामी १२ दिसंबर को पंकजा मुंडे क्या विस्फोट करती हैं? इस पर सबकी निगाहें लगी हुई हैं।