" /> भिवंडी में अभी नहीं चालू होगा पावरलूम उद्योग

भिवंडी में अभी नहीं चालू होगा पावरलूम उद्योग

◼️ मनपा आयुक्त ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर किया खुलासा
◼️ बंद पावरलूम चालू करनेवाले मालिकों पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी
◼️ लूम चालू करने की अफवाह फैलाकर चंद लोग मालिकों को कर रहे थे गुमराह, उठी कार्रवाई की मांग
कोरोना वायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में बंद पावरलूम को परमिशन द्वारा चालू किए जाने की अफवाह शहर में फैल रही थी, जिस पर अंकुश लगाते हुए भिवंडी मनपा आयुक्त ने स्पष्ट कहा है कि पावरलूम उद्योग लाॅक डाउन-4 में भी बंद रहेंगे। उन्होंने कहा है कि बिना इजाजत पावरलूम उद्योग चालू करनेवाले व्यापारी पर मनपा प्रशासन तथा भिवंडी पुलिस मामला दर्ज करेंगे. जिसके बाद चोरी-छिपे पावरलूम शुरू करनेवाले मालिकों में हड़कंप मच गया है।
मालूम हो भिवंडी के चंद राजनीतिज्ञ अपनी खोए राजनीतिक प्लेटफॉर्म की तलाश में लॉक डाउन-चार में बंद पावरलूम कारखानों को परमिशन द्वारा चालू करने की झूठी अफवाह शहर में फैलाकर मालिकों को गुमराह करने में लगे हैं। इसके लिए उक्त लोग एमआईडीसी की एक साइड भी वायरल कर रहे हैं। इतना ही नहीं उक्त लोग साइड पर फॉर्म भरकर पावरलूम कारखानों को चालू करने की बात कह रहे हैं। वायरल किए गए वीडियो में तो यहां तक कहा गया है कि यदि इस प्रकार परमिशन लेने में कोई दिक्कत आए तो उनसे संपर्क करें। इस वायरल वीडियो के संज्ञान में आते ही मनपा प्रशासन हरकत में आ गया है। मनपा आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर ने इसके बाद कहा है कि राज्य सरकार द्वारा पावरलूम चालू करने संबंधी कोई भी आदेश नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि भिवंडी निजामपुरा महानगरपालिका क्षेत्र एमआईडीसी अंतर्गत नहीं आता है। एमआईडीसी की वेबसाइट पर इजाजत लेकर पावरलूम चालू किया जा सकता है। यह पूरी तरह गलत व मालिकों को फंसाने व गुमराह किए जानेवाली महज अफवाह है। मनपा आयुक्त ने साफ शब्दों में कहा कि एमआईडीसी की वेबसाइट पर परमीशन लेकर शहर में पावरलूम उद्योग शुरू नहीं किया जा सकता है। बावजूद इसके पावरलूम उद्योग चालू करनेवालों के खिलाफ मनपा व पुलिस प्रशासन दोनों कार्रवाई करेंगे। स्थानीय जनता लाॅक डाउन का पालन करे, इस प्रकार का आह्वान मनपा आयुक्त डाॅ. प्रवीण आष्टीकर ने नागरिकों से किया है। इधर लूम मालिकों को गुमराह कर झूठी सहानुभूति लूटने की कोशिश करनेवाले नेता पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग ने तूल पकड़ लिया है। बता दें कि यह पहला मौका है जब भिवंडी में लगातार दो महीने सभी पावरलूम कारखाने व इससे जुड़ी इंडस्ट्रीज पूरी तरह बंद हैं। जिनके मालिकों द्वारा बंद के दौरान मजदूरों की देखभाल न किए जाने से मजदूर मजबूर होकर अपने गंवों को पलायन कर रहे हैं।