" /> मंदिरों पर भी कोरोना काल!, भक्तों को कुछ दिन नहीं होंगे सिद्धिविनायक और मुंबादेवी के दर्शन

मंदिरों पर भी कोरोना काल!, भक्तों को कुछ दिन नहीं होंगे सिद्धिविनायक और मुंबादेवी के दर्शन

कोरोना ने कहर बरपाया हुआ है। पूरी दुनिया में कोरोना की चपेट में आनेवालों की संख्या बढ़ती जा रही है। हालांकि उस पर अंकुश लगाने के हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं और बचाव के सारे उपाय जनता को बताए जा रहे हैं। आम तौर पर धार्मिक कार्यों में राहुकाल को देखा जाता है और उसके अनुसार मुहूर्त आदि निकाले जाते हैं। राहु की कुदृष्टि से प्रभावित काल की तरह ही कोरोना की कुदृष्टि के कारण मुंबई के प्रख्यात मंदिरों को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। इसे मंदिरों पर कोरोना काल के रूप में देखा जा रहा है। मुंबई के प्रसिद्ध सिद्धिविनायक मंदिर, मुंबादेवी मंदिर और बाबुलनाथ मंदिर को कुछ दिनों के लिए बंद रखने की घोषणा की गई है। ऐसा भक्तों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए किया जा रहा है।
बता दें कि महाराष्ट्र में अब तक ३९ और देश में कोरोना वायरस के ११९ मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच कोरोना के चलते मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर के लिए अहम पैâसला लिया गया है। सिद्धिविनायक ट्रस्ट ने १६ मार्च की शाम ७ बजे से मंदिर को बंद करने का पैâसला किया है। अगले पैâसले तक मंदिर को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। ज्ञात हो कि इससे पहले सिद्धिविनायक मंदिर में पुजारियों को मास्क पहने हुए देखा गया और प्रवेश करने से पहले श्रद्धालुओं के हाथों पर सेनेटाइजर लगाया जा रहा था। मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष आदेश बांदेकर ने कहा, ‘हमारी समिति ने कोरोना वायरस की वजह से एहतियात के तौर पर मंदिर को बंद करने का पैâसला किया है।
स्कूल-कॉलेज बंद, परीक्षाएं रद्द महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अभी तक स्कूल परीक्षाएं ही स्थगित थीं लेकिन अब कॉलेज की परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं। यह व्यवस्था अभी तक शहरों में लागू थी लेकिन अब पूरे महाराष्ट्र में इसे लागू किया गया है। आगंतुकों को मंत्रालय में आने से मना कर दिया गया है ताकि भीड़ न जुटे। अभी महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के ३९ मामले पाए गए हैं।
महाराष्ट्र के उच्च शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने बताया कि राज्य में यूनिवर्सिटी में एग्जाम रद्द कर दिए गए हैं। इससे पहले यूनिवर्सिटी में परीक्षाएं चल रही थीं। उन्होंने बताया कि सभी शिक्षक २५ मार्च तक घर से काम करेंगे। जब उन्हें कहा जाएगा तभी ऑफिस आना होगा। २७-२८ मार्च को एक बार फिर स्थिति का जायजा लिया जाएगा और फिर आगे का पैâसला किया जाएगा।