मछुआरे बनेंगे नेवी शील्ड

सूरज पांडे/ मुंबई
पाकिस्तान में बसे जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी वैंâप को मिट्टी में मिटाने के बाद पाकिस्तान बौखला गया है। इस बौखलाहट में पाकिस्तान देश को चोट पहुंचाने के लिए हर हथकंडा अपना सकता है। कल हवाई हमले की कोशिश की लेकिन उसका एक लड़ाकू प्लेन को अर्श से फर्श पर ला दिया गया। हिंदुस्थान को चोट पहुंचाने के लिए वह समुद्री मार्ग का भी उपयोग कर सकता है लेकिन उन्हें इस बात अंदाज नहीं होगा कि नेवी के साथ पानी में और भी हजारों आंखें संदेहास्पद गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं।
बता दें कि दोनों ही देशों के बीच जंग जैसा माहौल निर्माण हो गया है। ऐसे में नेवी व कोस्ट गार्ड ने हाल ही में हिंदुस्थान के पश्चिमी समुद्री पट्टे के मछुआरों के साथ बैठक की। `करंजा मच्छीमार सोसाइटी’ व `पर्ससिएन वेलफेयर एसोसिएशन’ के अध्यक्ष गणेश नखावा ने कहा कि कोस्ट गार्ड के साथ हुई बैठक में उन्होंने हमें सतर्क रहने और अंजान शिप व बोट से दूर रहने तथा किसी भी प्रकार की मदद न करने को कहा है। सारे मछुआरों को यह भी कहा गया है कि यदि उन्हें समुद्र में किसी प्रकार की संदेहास्पद गतिविधि के बारे में पता चले तो तुरंत नेवी अथवा कोस्ट गार्ड से संपर्क करें। इसी के साथ किसी भी अनजान से किसी भी प्रकार की सूचना शेयर न करने की बात भी सेना ने कही है।
 नेवी के आंख और कान बनेंगे
मुंबई सहित पूरे पश्चिमी समुद्री तट के मछुआरों ने नेवी को पूर्ण समर्थन करने की बात कही है। नरेंद्र पाटील ने कहा कि कल कोस्ट गार्ड के साथ हुई बैठक में हमने देश हित में नेवी की सभी सूचनाओं का पालन करने व नेवी के आंख और कान बनने का संकल्प लिया है। समुद्र में जहां नेवी नहीं पहुंच सकती, वहां मछुआरे पहुुंचते हैं। ऐसे में किसी भी संदेहास्पद गतिविधियों को तुरंत रिपोर्ट किया जाएगा।
 डेट्स देगा सूचना
महाराष्ट्र के मछुआरों के बोट में डेट्स नामक यंत्र फिट किया गया है। सरकार ने हाल ही में मछुआरों को उक्त सिस्टम अपने पास से दिया है। कोई मछुआरा समुद्र में फंस जाता है या फिर कोई भी आपातकालीन स्थित में बोट में लगे उक्त यंत्र को ऑन करते ही कोस्ट गार्ड को तुरंत मैसेज जाता है और जीपीएस के माध्यम से लोकेशन भी। ऐसे में यदि हमें कुछ संदेहास्पद लगेगा तो हम तुरंत डेट्स की मदद से जल सेना तक सूचना पहुंचाएंगे। इसी के साथ वायरलेश वॉकी टॉकी से भी नेवी व कोस्ट गार्ड तक सूचना पहुंचाई जाएगी।
 समुद्री मार्ग भी हाई अलर्ट पर
दोनों देशों के बीच गरमाहट है। ऐसे में हिंदुस्थान की वायु सेना, थल सेना और जल सेना भी अलर्ट पर है। समुद्री मार्गों को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है। नेशनल `फिशवर्कर फोरम’ के अध्यक्ष नरेंद्र पाटील ने कहा कि इस समय हर बोट की जांच की जा रही है। कागजपत्र से लेकर समानों की भी जांच नेवी द्वारा की जा रही है। खासकर मुंबई के समुद्री एंट्री पॉइंट व निकासी पॉइंट पर जांच काफी बढ़ गई है। समुद्र में कोस्ट गार्ड और पुलिस की गश्त भी काफी बढ़ गई है।