" /> मध्य प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता से मजाक! शिवराज मंत्रिमंडल पर कमलनाथ ने कसा तंज

मध्य प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता से मजाक! शिवराज मंत्रिमंडल पर कमलनाथ ने कसा तंज

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज मंत्रिमंडल के गठन को प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता के साथ मजाक बताया है। कमलनाथ ने ट्वीट करकहा किएक माह बाद मंत्रिमंडल का गठन किया गया, वो भी सिर्फ़ 5 मंत्री औरविभाग का बंटवारा किसी को नहीं। इसी से समझा जा सकता है कि भाजपा ने कितना अंतर्द्वंद्वचल रहा है, कितना आंतरिक संघर्ष चल रहा है। प्रलोभन का खेल खेलकर इन्होंने कांग्रेस की स्थिर सरकार तो गिरा दी, अपनी सरकार बना ली लेकिन, यह सरकार चलाएंगे कैसे? कितने दिन चलायेंगे ? आगे-आगे देखिये ? इस मंत्रिमंडल के गठन से ही इनके संघर्ष की वास्तविकता सामने आ चुकी है।

कमलनाथ ने ट्विटर के जरिए शिवराज और भाजपा पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि आज के मंत्रिमंडल गठन में ही भाजपा के कई जमीनी संघर्ष करनेवाले अनुभवी, ईमानदार, योग्य, संकट के इस दौर में जिनके अनुभव की आज आवश्यकता थी, वो सब नदारद हैं और जो संकट में भाग खड़े हुए उन्हेंअंदर ले लिया गया।

कैबिनेट विस्तार के बाद कांग्रेस विधायक और पूर्व वन मंत्री उमंग सिंघार ने कांग्रेस से भाजपामें शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमला बोला है। उमंग सिंघार ने ट्वीट कर कहा कि सिंधिया कोटे के दो मंत्री बनाकर भाजपा ने यह तो स्पष्ट कर दिया कि सिंधिया के 10 मंत्री तो नहीं बनेंगे, देखते हैं सिंधिया अपनी रियासत कितनी बचा पाते हैं? सिंधिया जी यह भाजपा हैं।

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने भी शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के हैंडल से ट्ववीट किया गया कि ये मंत्रिमंडल नहीं, लोकतंत्र की नीलामी है। इंदौर में जनता द्वारा चुने गये भाजपा विधायक रमेश मेंदोला, ऊषा ठाकुर और महेन्द्र हार्डिया को मंत्री नहीं बनाया गया। जो विधायक नहीं है, जिसने जनमत का सौदा किया है, जो लोकतंत्र पर एक दाग है…उसे मंत्री बनाया गया है,’ शर्म करो शिवराज’।