" /> मध्य प्रदेश में अब बस से नहीं आएगी बारात! ,एक दुल्हन के चलते सरकार ने बदले नियम

मध्य प्रदेश में अब बस से नहीं आएगी बारात! ,एक दुल्हन के चलते सरकार ने बदले नियम

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बारात में दुल्हन के कोविड—19 से संक्रमित पाये जाने के बाद 35 बारातियों को पृथकवास कर दिया गया है। यह शादी शहर के जाटखेड़ी में 18 मई को हुई थी।

मध्य प्रदेश के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कल बताया कि इस शादी में अनुमति से अधिक लोग शामिल हुए और वे एक बस से आए। इसलिए हमने अब फैसला लिया है कि शादी समारोह में बसों को अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि अनुमति से ज्यादा लोग शादी में शामिल होते हैं तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शादी में शामिल होने के लिए आज से केवल निजी वाहनों के जरिए ही आने की अनुमति होगी। मिश्रा ने बताया कि भोपाल के मिसरोद पुलिस थाना इलाके स्थित जाटखेड़ी में एक नया निरुद्ध क्षेत्र बन गया है। यहां सतलापुर गांव से एक बारात आई थी। इस विवाह में दुल्हन कोरोना वायरस संक्रमित पाई गई है। उन्होंने कहा कि इस शादी समारोह में शामिल करीब 35 लोगों को पृथकवास किया गया है। इसी बीच, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना वायरस की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि दिशानिर्देश के नियम अनुसार संक्रमित क्षेत्रों के बाहर शादी में दोनों पक्षों से 25-25 अधिकतम 50 सदस्य शामिल होने की अनुमति दी गई है, परंतु विवाह समारोह नहीं किया जा सकता और न ही बारात निकाली जा सकती है।उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा, ‘नियम तोड़ने पर प्राथमिकी दर्ज की जाए।’ इस बैठक में बताया गया कि भोपाल शहर के जाटखेड़ी में एक बारात आई जिसमें दुल्हन संक्रमित हुई तथा 35 बारातियों को पृथकवास किया गया है। बता दें कि मध्य प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 5,981 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 270 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, भोपाल में 1,115 लोग अब तक कोविड—19 के संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें से 40 की मौत हो चुकी है।