" /> मध्य रेलवे ने की 113 किमी नाला सफाई

मध्य रेलवे ने की 113 किमी नाला सफाई

मॉनसून से निपटने के लिए उपनगरीय रेलवे है तैयार
मध्य रेलवे की तैयारी हुई पूरी

मुंबई में मॉनसून ने दस्तक दे दी है। ऐसे में सवाल हर बार की तरह इस बार भी उठ रहा है कि क्या मुंबई की लाइफ लाइन कही जानेवाली लोकल ट्रेन ट्रैक पर जलजमाव होने से प्रभावित होगी। तो आपको बता दें कि मध्य रेलवे मॉनसून से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हो गई है। मध्य रेलवे के अनुसार रेलवे ने मॉनसून पूर्व अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं।
मध्य रेलवे के मुताबिक मॉनसून के दौरान रेल सेवाओं को सुचारू और व्यवधान मुक्त करने के लिए मध्य रेल ने मॉनसून की तैयारियों के साथ कमर कस ली है, जिसमें मिट्टी को हटाना, पुलिया और नालियों की सफाई करना, पेड़ों को छंटाई करना, बोल्डर को स्कैन करना, जल भराव के लिए संवेदनशील स्थानों पर उच्च वोल्टेज पंपों आदि का प्रावधान किया है। इसके अलावा मल्टी-सेक्शन डिजिटल काउंटर आदि से अप्रैल और मई के महीने में लॉकडाउन का लाभ उठाते हुए, मध्य रेल के मुंबई डिवीजन ने अपने उपनगरीय नेटवर्क के साथ-साथ घाटों में मॉनसून पूर्व सावधानी के उपाय किए है।

लगाए गए हाई वॉल्टेज पंप
मध्य रेल पर मुंबई उपनगरीय नेटवर्क के 17 संवेदनशील स्थानों पर पिछले साल की तुलना में इस साल अधिक हाई वोल्टेज पंप लगाए गए हैं। मध्य रेल ने भारी बारिश के दौरान जल भराव के लिए 17 संवेदनशील स्थानों की पहचान की है और 140 से अधिक पंप (रेलवे और एमसीजीएम द्वारा) प्रदान किए गए हैं। इस वर्ष पंप की क्षमता व संख्या बढ़ने से लो लाइन वाले क्षेत्रों पर जल भराव को रोक जा सकेगा। मेन लाइन पर मस्जिद, मझगांव यार्ड, भायखला, करी रोड, सायन, कुर्ला, विक्रोली, घाटकोपर, नानीपाड़ा, ठाणे, डोंबिवली, हार्बर लाइन पर शिवड़ी, वडाला, चूनाभट्टी, कोपरखैरने आदि स्थानों और दक्षिण-पूर्व की ओर मुख्य लाइन के किलोमीटर 65/7-8 व 75/1-2 के सबवे को चिन्हित किया गया है।

113 किमी नाला सफाई
मध्य रेल ने अपने उपनगरीय खंड पर 113 किलोमीटर नालियों को साफ किया है। मध्य रेलवे ने अपने उपनगरीय खंडों पर कुल 77 पुल, जिसमें मेन लाइन पर 55 पुल और हार्बर लाइन पर 22 पुलियों की सफाई की है। इसके अलावा मध्य रेल ने घाटकोपर और कांजुरमार्ग, घाटकोपर और विक्रोली और कुर्ला टर्मिनल नाले के बीच के बहुत महत्वपूर्ण नालों को भी साफ किया है।

घाट सेक्शन- बोल्डर स्कैनिंग और ड्रॉपिंग
मध्य रेल ने अपने उत्तर पूर्व खंड यानी कसारा और इगतपुरी के बीच 18 सुरंगों का निरीक्षण कर बोल्डर स्कैनिंग की है, 40 बोल्डर की पहचान कर उसे गिराया गया है। इसके अलावा, 14 स्थानों पर 50 वॉचमैन तैनात किए जा रहे हैं और 24 घंटे वॉकी-टॉकी पर निगरानी रखने और यातायात में किसी भी व्यवधान से बचने के लिए 7 बीटों पर 75 पैट्रोलमैन तैनात किए जा रहे हैं।

कर्जत-लोनावला सेक्शन
मध्य रेल ने अपने दक्षिण पूर्व खंड पर यानी कर्जत और लोनावाला के बीच 52 सुरंगों के निरीक्षण के अलावा बोल्डर स्कैनिंग की है। इसके साथ ही 74 वॉचमैन को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया जा रहा है और 54 पैट्रोलमैन को 24×7 की निगरानी रखने और यातायात में किसी भी व्यवधान से बचने के लिए पहचाने जानेवाले बीट्स पर तैनात किया जा रहा है।

जलमार्ग की क्षमता में वृद्धि
कुर्ला और विद्याविहार स्टेशनों के बीच माइक्रो टनलिंग के माध्यम से पाइप डाली गई है। यह पाइप, 70 मीटर की है जिसका व्यास 1.8 मीटर है। ऐसे दो पाइपलाइनों को लॉकडाउन में डालकर पुल की क्षमता बढ़ा दी गई है।