मनपा सख्त गड्ढा खोदा तो जाना पड़ेगा जेल

ठाणे मनपा क्षेत्र में किसी तरह की खुदाई पर प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। १५ मई के बाद अगर किसी ने गड्ढा खोदा तो उसे सीधे जेल जाना पड़ेगा। गड्ढा खोदनेवाले के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराने के आदेश मनपा अधिकारियों को दे दिए गए हैं। इसके अलावा ३१ मई तक शहर के सभी नालों को साफ करने का आदेश दिया गया है। मॉनसून के दौरान किसी तरह की आपदा से निपटने या टालने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों के साथ लगातार बैठकें हो रही हैं।
बरसात का वक्त करीब आता जा रहा है। ऐसे में शहर में विभिन्न कार्यों के लिए खोदे गए गड्ढे हादसे का सबब बन सकते हैं। इसके लिए प्रशासन ने गड्ढे की खुदाई पर रोक लगाने का फरमान जारी कर दिया है। इस नियम का उल्लंघन करनेवाले को सीधा जेल का रास्ता दिखा दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पानी की पाइप लाइन बिछाने, पानी की निकासी हेतु सड़कों के किनारे नाले का निर्माण करने, सरकारी तथा निजी कंपनियों द्वारा केबल डालने आदि के लिए बड़े पैमाने पर गड्ढों की खुदाई की जाती है। मॉनसून तक काम पूरा न होने पर खुदाई काम करनेवाले ठेकेदार उन गड्ढों को उसी तरह से खुला छोड़ जाते हैं। मॉनसून के दौरान उन गड्ढों में पानी भर जाता है, जिसकी वजह से दुर्घटनाएं होती हैं।
पिछले वर्ष गड्ढे में गिरकर मरने तथा घायल होने की कई घटनाएं दर्ज हुई थीं। मनपा प्रशासन ने पिछली दुर्घटनाओं से सबक लेते हुए इस वर्ष १५ मई के बाद खुदाई करने पर पूरी तरह से रोक लगा दी है तथा अब तक जो खुदाई हुई है, उन्हें ३१ मई तक पूरा करने तथा गड्ढों को पूरी तरह से भरने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।
३१ मई तक करो नालों की सफाई
ठाणे मनपा क्षेत्र में १९ बड़े तथा २९३ छोटे नाले हैं। नालों की कुल लंबाई ११९ किमी है। प्रतिवर्ष छोटे-बड़े सभी नालों की सफाई का काम अप्रैल महीने से शुरू हो जाता था पर इस वर्ष लोकसभा चुनावों में अधिकारियों तथा कर्मचारियों की व्यस्तता के चलते नालों की सफाई का काम देर से शुरू हुआ है। नालों की सफाई के लिए ८ करोड़ रुपए की निधि आवंटित की गई है। अधिकारियों की एक बैठक में मनपा आयुक्त संजीव जैसवाल ने ३१ मई तक सभी नालों की सफाई करने का लक्ष्य निर्धारित किया है पर अधिकारियों का कहना है कि जून के पहले हफ्ते तक नाला सफाई का काम पूरा कर लेने का निर्देश ठेकेदारों को दिया गया है। इसके लिए मनपा की सभी १० प्रभाग समितियों में एक जेसीबी तथा एक पोकलेन उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। नाले की सफाई कम, हाथ की सफाई ज्यादा का आरोप इस वर्ष मनपा प्रशासन पर न लगे, इसके लिए विशेष निगरानी व्यवस्था की गई है।
अति जर्जर इमारतें होंगी स्थानांतरित
ठाणे मनपा द्वारा बड़े पैमाने पर जर्र्जर इमारतों के सर्वेक्षण का काम किया जा रहा है। मनपा की कुल १० प्रभाग समितियों में से ४ प्रभाग समिति के सर्वेक्षण का काम पूर्ण हो चुका है, बाकी की प्रभाग समितियों में सर्वेक्षण का काम युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। एक हफ्ते के अंदर इसे भी पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। मनपा आयुक्त ने अधिकारियों को सी-१ तथा सी-२ ग्रेड वाली जर्जर इमारतों में रहनेवाले नागरिकों तथा धोखादायक पहाड़ियों के आस-पास रहनेवाले नागरिकों को स्थानांतरित करने का निर्देश दिया है।