मराठा समाज को न्याय मिला, अभिनंदन!, अब बंजारा-धनगर समाज की समस्या सुलझाओ-उद्धव ठाकरे की मांग

उद्धव ठाकरे की मुख्यमंत्री से मांग
लंबे संघर्ष के बाद मराठा समाज को न्याय मिला, सरकार ने मराठा समाज को न्याय दिया, इसके लिए उनका अभिनंदन। अब बंजारा-धनगर समाज की समस्या भी सुलझाओ, ऐसी मांग शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से की। बंजारा समाज लड़ाकू है, उनकी मांग भी योग्य है। उनको शिक्षा की सुविधा मिल जाए तो यह समाज देश का आधार स्तंभ बन जाएगा, ऐसा विश्वास उद्धव ठाकरे ने इस मौके पर व्यक्त किया। बंजारा समाज की काशी कहलानेवाले पोहरागढ़ स्थित संत सेवालाल मंदिर परिसर में शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस विभिन्न विकास कार्यों का भूमिपूजन करने आए थे। इस कार्यक्रम में संत डॉक्टर रामराव बापू, वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार, ग्राम विकास मंत्री पंकजा मुंडे, शिवसेना सचिव मिलिंद नार्वेकर, राजस्व राज्यमंत्री संजय राठौड, राज्यमंत्री दादा भुसे, रणजीत पाटील, भावना गवली, प्रताप राव जाधव, विधायक गोपी किशन बाजोरिया आदि उपस्थित थे। कार्यकम की प्रस्तावना के दौरान राज्यमंत्री संजय राठौड ने बंजारा समाज की कई मांगें व्यक्त कीं।
‘जय सेवालाल’ से अपने भाषण की शुरुआत करते हुए उद्धव ठाकरे ने शिवसेना व बंजारा समाज का अटूट रिश्ता होने की बात कही। संत सेवालाल के क्रांतिकारी विचारों की विरासत प्रबोधनकार
ठाकरे ने ली, इसी क्रांतिकारी विचार को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं, ऐसा कहते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि हर किसी को जीने का अधिकार है। बंजारा समाज एक लड़ाकू समाज है। संत सेवालाल ने अंग्रेजों की नौकरी से मिलनेवाली आमदनी से प्रतिकूल परिस्थितियों में इस समाज को सम्मान के साथ संघर्ष करने की सीख दी। स्वाभिमान बंजारा समाज के खून में है। मौका आने पर तलवार लेकर लड़ो लेकिन बेबस होकर जीवन मत जीओ। ऐसे आत्मविश्वास से भरी सीख सेवालाल ने बंजारा समाज को दी। संत सेवालाल सिर्फ बंजारा समाज के ही नहीं बल्कि समूचे विश्व के थे, ऐसा उद्धव ठाकरे ने इस मौके पर कहा। अपने संबोधन में देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि उद्धव ठाकरे हमारे मार्गदर्शक हैं। बंजारा समाज के विकास के लिए उनके द्वारा व्यक्त की गई अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए सरकार वचनबद्ध है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रोटोकॉल दरकिनार कर शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। इतना ही नहीं कार्यक्रमस्थल पर जाते समय फडणवीस और उद्धव ठाकरे एक ही वाहन में साथ गए।