मलेशिया की मकड़ी मुंबई में, आरे में मिली जंपिंग स्पाइडर कूद-कूद कर ढाती है कहर

मकड़ियों को लेकर विदेश में आए दिन कोई न कोई फिल्म बनती रहती है। इन विदेशी फिल्मों में मकड़ियों को जिस तरह दिखाया जाता है, उसे देखकर बच्चों के ही नहीं, बड़े-बड़ों के पसीने छूट जाते हैं। ऐसे में विदेशी फिल्मों जैसी खतरनाक मकड़ी अब हिंदुस्थान में भी देखने को मिलेगी। हाल ही में गोरेगांव स्थित आरे कॉलोनी में मलेशिया की मकड़ी की उपप्रजाति देखने को मिली है, जो कि कूद-कूद कर लोगों पर अपना कहर ढाती है।
बता दें कि `जंिंपग स्पाइडर’ के नाम से विख्यात मकड़ी की उपप्रजाति `जेर्झिगो’ आरे कॉलोनी में पाई गई है। इस मकड़ी से सतर्क रहना बहुत आवश्यक है क्योंकि यह मकड़ी लोगों को काट भी लेती है। आरे कॉलोनी में कार्यरत रिसर्चर राजेश सनप ने बताया कि जपिंग स्पाइडर की उपप्रजाति `जेर्झिगो’ मकड़ी, मकड़ियों की प्रजाति में बेहद ही दुर्लभ है। दुनिया में सबसे पहले `जेर्झिगो’ मकड़ी मलेशिया में पाई गई थी। हिंदुस्थान के अलावा अन्य २-३ देशों में भी जेर्झिगो मकड़ी देखने को मिली है। हिंदुस्थान में पहली बार यह मकड़ी देखी गई है। जंपिंग स्पाइडर की खासियत यह है कि इन मकड़ियों के पास चार जोड़ी आंखें होती हैं, जिसमें से अन्य तीन जोड़ी आंखें वैकल्पिक और मुख्य एक जोड़ी आंखें घूमते हुए काम करती हैं।