" /> महामारी एक्ट में पहला केस दर्ज! कोरोना संक्रमित महिला के पिता पर एफआईआर

महामारी एक्ट में पहला केस दर्ज! कोरोना संक्रमित महिला के पिता पर एफआईआर

इटली से हनीमून मनाकर लौटी थी महिला
पति का बंगलुरु में चल रहा है उपचार
महिला आगरा में अपने मायके आ गई थी

यूपी के आगरा जिले में कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने के बाद देश में महामारी एक्ट में पहली एफआईआर आगरा के सदर थाने में दर्ज हुई है। यहां कोरोना संक्रमित मिली एक महिला आइसोलेशन वॉर्ड से भागकर अपने मायके में छिप गई थी। उसके परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग और पुलिस से यह बात छिपाई थी। पुलिस ने महिला के पिता के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद अन्य परिजन के नाम भी एफआईआर में शामिल किए जा सकते हैं।
कैंट रेलवे कॉलोनी निवासी रेलवे कर्मचारी की बेटी का विवाह एक माह पहले बंगलुरु में नौकरी करनेवाले युवक के साथ हुआ था। शादी के बाद दोनों हनीमून मनाने के लिए इटली गए थे। इटली से लौटने के बाद पति में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। महिला बीते गुरुवार को आगरा वैंâट पहुंची थी। यहां पहुंचने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसे रेलवे अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां से उसे जिला अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड भेजा गया। जहां से सैंपल लेकर जांच के लिए अलीगढ़ भेजा गया। प्रशासन ने महिला के पिता के खिलाफ लोगों की जान खतरे में डालने के आरोप में सदर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। यह मामला महामारी एक्ट के तहत दर्ज किया गया है। इस बात की पुष्टि एसएसपी बबलू कुमार ने की। फिलहाल परिवार को स्वास्थ्य विभाग आइसोलेट कर रहा है।
पुलिस ने कड़ाई से पूछा तो सच बताया
महिला के कई घंटे गायब रहने के मामले में जिला प्रशासन और पुलिस ने कड़ा रुख अपनाया। पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो परिजनों ने बताया कि महिला घर पर ही है। डर के कारण उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से झूठ बोला था। स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमित महिला को एसएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया। साथ ही रेलवे विभाग ने युवती के पिता व भाई को १४ दिन की छुट्टी दे दी है। परिवार को १४ दिनों तक के लिए जिला अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है।
जांच में पॉजिटिव आई थी रिपोर्ट
अलीगढ़ में हुई जांच में महिला में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया था। रिपोर्ट आने से पहले ही महिला आइसोलेशन वॉर्ड से भागकर मायके चली गई थी। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने उसकी तलाश की लेकिन पता नहीं चला था। पुलिस जब महिला के घर गई तो परिजनों ने बताया कि वह दिल्ली चली गई है। स्वास्थ्य विभाग ने घर के सात अन्य सदस्यों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा लेकिन वह बेटी की जानकारी छिपाते रहे।

 ये भी पढ़ें- यूपी की जेलों में कैदी बना रहे हैं मास्क