महिला ने मोटापे को दी मात, ४ साल में २१४ किलो वजन गायब

आज के दौर में लोगों में ओबेसिटी यानी मोटापे की समस्या काफी बढ़ रही हैं लेकिन यही मोटापा आपकी आधी जिंदगी को खा जाए तो क्या? ३०० किलो वजन के साथ जी रही ४२ वर्षीय महिला ने आखिरकार मोटापे को मात दे ही दिया। डॉक्टरों की सहायता, परिवार के सयियोग और अपनी प्रबल इच्छा के दम पर ४ साल में महिला ने २१४ किलो वजन गायब किया। डॉक्टरों ने दांव किया है कि उक्त महिला एशिया की सबसे भारी महिला है जिसका वजन बैरिएट्रिक सर्जरी कर ४ साल में कम किया गया है।
बता दें कि वसई की निवासी अमिता राजानी का वजन १०वीं कक्षा में लगभग १२६ किलो था। कॉलेज खत्म होते ही उसका वजन १६० किलो तक बढ़ गया। देखते ही देखते उसका शरीर इतना भारी हो गया कि वह बेड पर से उठ भी नहीं पाती थी। अमिता की मां ममता ने बताया कि उसकी देखभाल के लिए ३ नौकर रखे गए थे। बेटी को १० वर्ष से असहाय देख उन्हें बड़ी पीड़ा होती थी। उसके बाद उसे लीलावती अस्पताल में मोटापा रोग विशेषज्ञ डॉ. शशांक जोशी के पास ले जाया गया। प्राथमिक जांच में पाया गया कि अमिता को मोटापे के साथ हाई कोलेस्ट्रॉल, टाइप २ डायबिटीज और एक किडनी पर ही वह जीवित है। मोटापा कम करने के लिए पिछले चार सालों में अमिता की दो बैरिएट्रिक सर्जरी की जा चुकी है। इससे अमिता का वजन २१४ किलो कम हुआ है।
डॉ. शशांक ने बताया कि मोटापे को लोग अक्सर लाइफ स्टाइल से जोड़कर देखते हैं, लेकिन यह अब एक बीमारी है, जो जीन या हॉर्मोनल असंतुलन के कारण होती हैं।

सैकड़ों तोलिए लगते थे
डॉक्टरों से मिली जानकारी के अनुसार चार सालों में साफ-सफाई और अमिता की देखरेख में सैकड़ों तोलिए लग गए। उसके शरीर में से निरंतर पानी का रिसाव भी होता था इसलिए रोजाना १०० तोलिए उसे पोंछने के लिए लग जाते थे।