मां तुझे सलाम!, शहीद की पत्नी दुश्मनों से लेगी लोहा

पालघर जिले के विरार के रहनेवाले मेजर प्रसाद महाडिक के शहीद होने के बाद अब उनकी धर्मपत्नी गौरी महाडिक दुश्मनों से लोहा लेंगी। गौरी प्रसाद महाडिक विधवा श्रेणी में सेवा चयन बोर्ड को क्लियर कर अप्रैल में चेन्नई में भारतीय सेना के अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी में शामिल होने के लिए और मां भारती को सलाम करने के लिए तैयार हैं।
बता दें कि शहीद मेजर प्रसाद महाडिक की पत्नी गौरी महाडिक ने अपने पति को श्रद्धांजलि देते समय सेना में भर्ती होकर देश की सेवा और दुश्मनों से लोहा लेने की शपथ ली थी। गौरी की यह शपथ जल्द ही पूरी होनेवाली है। शहीद मेजर प्रसाद महाडिक की पत्नी ने सेना में भर्ती होने के लिए लेफ्टिनेंट पद के लिए दो परीक्षाएं उत्तीर्ण की हैं। इस परीक्षा के बाद उनके सेना में भर्ती होने का रास्ता साफ हो गया है। बता दें कि अरुणाचल प्रदेश के इंडो-चायना बॉर्डर के तवांग में २०१७ में मेजर प्रसाद महाडिक शहीद हो गए थे। ३० नवंबर से ४ दिसंबर २०१८ की अवधि में होनेवाली परीक्षा में पहला अंक प्राप्त कर सेना में भर्ती होने की दिशा में पहला कदम बढ़ाया है। आनेवाले अप्रैल महीने में ४९ हफ्ते के प्रशिक्षण के बाद ३१ साल की गौरी को मार्च २०२० में सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में शामिल किया जाएगा। गौरी ने एसएसबी परीक्षाओं के दौरान १६ उम्मीदवारों के साथ प्रतिस्पर्धा की और टॉप किया और ओटीए में प्रशिक्षण के लिए योग्य बनीं।